Wednesday, November 19, 2008

तू लिख, तुझे कौन मना करता है...


मनोज कुमार राठौर

1
उठा कलम जरा कुछ लिख दे
तेरी लिखाई में खुदा बसता है
कलम की नौक पर सच की धार चला
तू लिख, तुझे कौन मना करता है।
2
हर शब्द में ताकत भर दे
तेरी शब्दों में भगवान बसता है
नीम से शब्दों को शहद लगाता चल
तू लिख, तुझे कौन मना करता है।

3
लेखक तू है, सब जग जाने
कलम तेरी है, सब जग माने
काहे तू फिर डरता है
तू लिख तुझे कौन मना करता है-2

Tuesday, November 18, 2008

मालेगांव मामले में एटीएस का रवैया ढिला!

मनोज कुमार राठौर
महाराष्ट के मालेगांव बम विस्फोट मामले में लेफ्निंेट कर्नल श्रीकांत पुरोहित को दोषी ठहराया गया। एटीएस ने कर्नल के खिलाफ सबूत भी जुटाए, लेकिन अभी तक पैस नहीं किए। अदालत में कर्नल की पेसी पर पेसी कराई जा रही है। इन पेसियों का अभी तक कोई निर्णय नहीं निकला। अब तो ऐसा लगता है कि एटीएस की टीम अंधेरें में तीर चला रही हो। एटीएस के अनुसार आरोपी पुरोहित ने 60 किलो आरडीएक्स सेना के डिपो में जमा नहीं किया था। इस आरडीएक्स का इस्तेमाल समझौता एक्सप्रेस में हुए बम धमाकों में किया गया था, परन्तु इस मामले में सेना के वरिष्ट अधिकारियों का कहना है कि यदि जम्मू कश्मीर मंे आतंकवादियों से आरडीएक्स बरामद किया जाता है तो वह आर्टिलरी यूनिट के अधिकारियों के हवाले किया जाता है। बाद में इस आरडीएक्स को राज्य पुलिस को सौंप दिया जाता है। लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित चूंकि मिलिट्री इंटेलिजेंस में तैनात थे, इसलिए उनके पास आरडीएक्स जाने का सवाल ही पैदा नहीं होता है। इस मामले में तो मानो कानुन का सारेआम मज़ाक उडाया जा रहा है। यदि कर्नल की तैनाती में आरडीएक्स गायब हुआ है तो उसे सजा देना चाहिए और कर्नल मिलिट्री इंटेलिजेंस में तैनात थे तो उन्हें इस मामले से बरी किया जाना चाहिए। एटीएस के इस ढिले रवैये से ऐसा लगता है कि इस मामले के फैसले में वर्षों लग जाएगें।

Saturday, November 15, 2008

हाईटेक हुआ चुनाव प्रचार


मनोज कुमार राठौर
राजनीति पार्टियां चुनावी माहौल में वोट बाटौरने के लिए प्रचार के नये-नये हथकंडे अपना रही है। भाजपा, कांग्रेस, सपा और बसपा जैसी पार्टियों ने चुनाव प्रचार के लिए हाईटेक तरीका अपनाया है। यह सभी पार्टियां मोबाईल, इंटरनेट, प्रिंट और इलेक्ट्राॅनिक चैनलों के आलावा बोथलाइन(दो और चार पहिया वाहनों पर रात व दिन में से रात और दिन में) प्रचार कर रही है। स्वतंत्रता के दौरान हमारे राजनेताओं को प्रचार की एहमियत का पता नहीं था। हमारे देश में जैसे-जैसे विकास की गंगा बहती गई, वैसे-वैसे राजनेताओं ने प्रचार के तौर-तरीके भी सीखें। आज हमारा देश चहूमुखी विकास कर रहा है और इस विकास के साथ राजनीतिक पार्टियों ने चुनाव के तरीकों में भी बदलाव किया। पहले जहां पार्टी चुनाव के प्रचार के लिए आम सभा का आयोजन रखती थी जिसमें लाखों लोग सिरकत भी करते थे। साईकिल, तांगे और बैलगाड़ियों से भी प्रचार किया जाता था लेकिन आज हवाई जहाज और चार पहिया वाहनों से प्रसार-प्रचार किया जा रहा है। मध्यप्रदेश के स्टार प्रचारक शिवराज सिंह, बसपा प्रमुख मायावती और भाजशा की राष्ट्रीय अध्यक्ष उमा भारती भी हवाई जहाज से चुनाव प्रचार कर रहे हैं। अमेरीका में हुए राष्ट्रपति चुनाव के प्रचार-प्रचार तरीकों को भारतीय राजनीति में अपनाया जा रहा है। जहां दोनों दावेदारों ने डिजिटल मीडिया जैसे यू ट्यूब, ब्लाॅग, सोषियल नेटवर्क, आनॅलाइन पेटिषन्स, आॅनलाइन गु्रप्त, ई-मेल आदि का चुनाव प्रचार के लिए जमकर प्रयोग किया। भारतीय राजनीति पार्टियों में भाजपा ही इन हाईटेक संचार माध्यम का प्रयोग कर रहे हंै।

पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी बीमारी के कारण भाजपा का प्रचार-प्रसार करने में असमर्थ हैं, उनकी इस कमी को पूरा करने के लिए भाजपा ने उनके भाषण की एक सीडी बनाई और उसकी के माध्यम से चुनाव प्रचार कर रहे हैं। अपने प्रचार-प्रसार के लिए पार्टियां बड़ी-बड़ी विज्ञापन एजेंसी के शरण में जा रही हंै। हाईटेक प्रचार के लिए पार्टी अरबों रुपए खर्च कर देती है। यह धन चुनाव के वक्त तो पार्टियां लगा देती हंै लेकिन चुनाव जीतने के दौरान पलभर में वसूल भी कर लेती है। यही अरबों रुपए यदि देष के विकास कार्यों में लगाया तो शायद हमारे देश की अर्थव्यवस्था सुदृढ़ होगी।


Friday, November 14, 2008

औरत है तुझे औरत रहना है..

मनोज कुमार राठौर
घर-द्वारे तुझे है रहना
अत्याचार तुझे है हना
औरत है तुझे औरत रहना है...


पहले पति की बात सुनना
फिर बेटे की हरकत पर रोना है
औरत है तुझे औरत रहना है...


कितनी तू आवाज उठाए
यही देश का रोना है
औरत है तुझे औरत रहना है...


लोग उठाये तुझ पर उंगली
स्वच्छ नदी सी बहना है
औरत है तुझे औरत रहना है...

तुझे जलाए लाख दबंगे
कष्टकारी पीड़ा सहना है
औरत है तुझे औरत रहना है...


तू ही कल का भविष्य बनाए
जब भी लोगों यह कहना है
औरत है तुझे औरत रहना है...

Monday, November 10, 2008

विदेशों में भारतीयों की स्थिति











मनोज कुमार राठौर
विदेशों में भारतीयों ने अपने देश का नाम रोशन किया है। जापान की एक पत्रिका में छपे आकड़ों के अनुसार विदेशों में लगभग 30 प्रतिशत भारतीय नासा में वैज्ञानिक, 20 प्रतिशत डाॅक्टर और 25 प्रतिशत अन्य कंपनियों में अपनी सेवाएं प्रदान कर रहंे हैं। मीडिया और सरकारी रिपोर्टो में छपे आकड़़़़ों में भारतीयों की उपलब्धियों को प्रायः रेखांकित किया जाता है, लेकिन इसके बावजूद भी भारतीयों की स्थिति विदेश में दयनीय बनी हुई है। भारतीय विदेशी चमक-दमक में इतने डूब जाते हैं कि वह अपने देश को भी भूल जाते हैं। अधिकतम भारतीय विदेशों में काम करना पसंद करते हैं। भारतवासियों की धारा का प्रवाह विदेश की ओर है और वह तीव्र गति से इस ओर प्रस्थान कर रहे हैं।

ब्रिटेेन के नागरिक अप्रवासी भारतीयों को जिस छवि को प्रतिदिन देखते हैं उसें लेेकर उन्होंने अपनी-अपनी कुधारणाएं बना रखी हैं। गोरी चमड़़़ी के सिरमौर समझने वाले आकों को यह लगता है कि अप्रवासियों हमारी नौकरियां और रोजगार छीन रहे हैं। वहां भारतीयों की बढ़ती संख्या से उन्हें अपना देश भी अपना नहीं लगता है, इसलिए वह भारतीयों के साथ भेदभाव करते हैं। वहां भारतीयों सम्पत्ति का मूल्य गोरों की सम्पत्ति मूल्य के मुकाबले बहुत कम है। इससे अंदाजा लगाया जाता है कि ब्रिटेन में भारतीयों की स्थिति कैसी होगी?

विदेशों मेें भारतीयों पर अत्याचार दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है, लेकिन हमारी सरकार का इस ओर ध्यान नहीं है। अमेरिका की एक जहाज निर्माण कम्पनी ‘सिग्नल इन्तरनेशनल ’ जो मिसीसिपी में स्थित है। करीब 100 भारतीय श्रमिकों ने कम्पनी के खिलाफ शोषण का आरोप लगाया था लेकिन कंपनी ने उनके इस आरोप को सिरे से खारिज कर दिया । उन्हंांेने इस संदर्भ में भारत सरकार से गुहार लगाई। भारत सरकार ने उनकी गुहार तो सुनी लेकिन उसे भी अनसुनी करने की भरपूर कोशिश की गई। भारत सरकार ने अपना एक दल अमेरिका जांच करने के लिए भेजा। अमेरिका गए दल ने जब भारत जाकर अपनी रिपोर्ट पेश की जिसमें शोषण संबंधित मामले को गलत बताया गया था। रिपोर्ट में भारतीयों के शोषण की जानकारी को छूटी साबित कर दी गई। इस बात का खुलासा श्रमिक वर्ग के नेता ने करा, उन्होंने कहा कि भारतीय दूतावास द्वारा भेजी गई टीम केवल सिग्रलपरिवार में काम करने वाले मजदूरों से ही मिल कर लौट गई । वह अन्य भारतीय मजदूरों से नहीं मिली। भारत सरकार के भेजे गए इन नमूनों की इस गलती से ऐसा लगता है कि अमेरिका सरकार ने इन्हें खरीद लिया था इसलिए तो अधूरी जानकारी लेकर भारत लौट गए। हमारे देश के यह हौनहार दूतवास तो लौट आए मगर उन 100 भारतीयों का क्या होगा, जिनका शोषण किया जा रहा है! इसी प्रकार अमेरिका के अलावा भी कई देशों में भारतीयों की स्थिति ठीेक नहीं है।

सभी हमसफर जाते है
कौन किसकी गांरटी लेता है
जिसकी और ध्यान गया
उस पर देश को गर्व होता है
जिसकी और ध्यान नहीं गया
वह शोषित होता है।

Wednesday, November 5, 2008

धर्म गुरू सवालों के बीच!


मनोज कुमार राठौर
भारत की इस पावन धरा पर न जाने ऐसे कितने महापुरूषों और विद्ववानों ने जन्म लिया है, जिनके विचार से आज भी लोग प्रभावित होते हैं। सभी धर्म के अपने-अपने धर्म गुरू होेते हैं और वह अपने-अपने धर्म का प्रचार-प्रसार करते हैं। प्राचीन काल में गौतम बुद्ध ने बौद्ध धर्म का और हजरत मोहम्मद ने इस्लाम धर्म का प्रचार-प्रसार किया। यह सभी अपने-अपने धर्म के प्रति लोगों को जागरूक करते थे ताकि लोग उनके धर्म को समझ सके। धर्म गुरू जगह-जगह जाकर लोगों को एकत्रित कर धर्म की ज्ञान का पाठ पढ़ते थे, धीरे-धीरे इन सभी महापुरूषों को धर्म गुरूओं की संज्ञा दी जाने लगी, लेकिन आज के इस युग में धर्म गुरूओं की परिभाषा बदल गई है। आज यह धर्म गुरू धन की लालसा में लोगों को महिमा मंडित करते हैं। अब धन के साथ-साथ इनकों तन की भुख लगने लगी हैं इसलिए यह अपने भक्तों के साथ अश्लील हरकत करते हैं। आज के सभी धर्म गुरू आए दिन सावलों में घिरे रहते हैं। आज के धर्म गुरूओं पर अत्याचार, प्रताड़ना, बाल मजदुरी, अश्लीलता , हत्या, भ्रष्टाचार, दुराचार, काले धंधे और अवैध तरीके से कब्जा करने का आरोप हैं।
धर्म गुरू पर से लोगों का विश्वास उठने लगा है। जब भी सत्संग या प्रवचन की बात होती है तो लोग उसमें भाग लेने से कतराते हैं। भारत की इस पावन भूमि को यह धर्म गुरू अपने कुकृत्य से दूषित कर रहंे हैं। आईबीएम 7 न्यूज़ चैनल ने इन धर्म गुरूओं के खिलाफ एक स्टिंग आपरेशन किया था जिसमे कई धर्म गुरूओं की काली करतूते लोगों के सामने आई थी। पंजाब में बाबा राम रहिम की कालगुजारी किसी से छुपी नहीं है। उन्होंने किस तरह पहले महिलाओं के साथ अष्लील हरकत की और उसके बाद अपने वाहन चालक की मौत के मामले में विवादों में घिरे रहे। बाबा की ऐसी करनी के बाद भी वह आज भी आजाद है। ऐसा क्यो? यह जनता को पता है कि उनके साथ कई कानूनी अधिकारी और राजनीतिज्ञ नेता भी शामिल हैं जो इस काम में सक्रिय भुूमिका निभाते हैं। यदि उन्होंने बाबा को बेनाकाप किया तो उनकी भी पोल खुल जाएगी। इन सभी कारणों की वजह से उनकी फाइलें जल्द ही बंद हो जाती हैं। ऐसे में कानून बनाने वाले ही इन डोगियों को पनाहा दे रहा है, ऐसे में इनकी दुकानदारी कौन बंद कराएगा? अखबारों की लीड खबर बनने वाले धर्म गुरू इतने निर्डर हैं कि अब वह बलात्कार जैसे दुष्कर्म करने से भी नहीं खबराते। सत्संग की आड़ में यौन शोषण कर रहे लाल सांई उर्फ लाल बूलचंदानी के खिलाफ पुलिस ने बलात्कार का मामला दर्ज किया। बस यह मामला दर्ज किया गया अभी तक इस पर कोई कार्यवाही नहीं की जा सकी। भोपाल के बैरागढ़ स्थित आश्रम के धर्म गुरू लाल सांई ने एक किशोरी के साथ बलात्कार किया। किशोरी ने लाल सांई के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई, वह दो साल पहले इस ढोंगी बाबा के संपर्क में आई थी। उस समय वह स्कूल में पढ़ती थी और केवल 14 साल की थी। वह अब एक इंजीनियरिंग काॅलेज में फस्र्ट ईयर की छात्रा है। लाल सांई ने उसे ध्यान सत्संग के नाम पर अपने आश्रम मंे बुलाया। वहां उसे एक महिला डाॅक्टर की मदद से नषीली दवा पिलाई गई और इसके बाद उसके साथ बलात्कार किया गया। ये सिलसिला वर्ष 2006 से चल रहा था। बाबा के चुंगल से निकलने के प्रयास किया तो बाबा ने उसे ब्लेकमेंल करना शुरू कर दिया, इस कारण उसने मुंह नहीं खोला। बाबा की काली करतुतों का भंडा आखिर फूट ही गया, छात्रा ने परेशान होकर इसकी शेकायत जब पुलिस से की तो पुलिस ने बाबा के आश्रम पर छापा मारा तो वह नौ दो ग्यारहा हो गया। इस शैतान को पहले से यह खबर मिल गई थी कि उसके आश्रम पर पुलिस छापा मारने वाली है। इससे यह बात सामने आती है कि आश्रम पर छापे की खबर बाबा को किस ने दी। इस बात का पता तो पुलिस को ही था। अब इसका क्या मतलब निकाला जाए? पुलिस के कई आला अधिकारी पर शक की सुई घुम गई है। जब यह बात मीडिया में आई तो पुलिस दबाव में आई और जांच शुरू की। आज इस मामले में कई बड़े नेता, अधिकारी और ख्याति प्राप्त व्यक्ति भी शामिल हैं, लेकिन यह सब बाते हवा में हैं किसी के विरूद्व कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। बाबा की इस कालगुजारी से जनता आक्रोषित तो हुई लेकिन कुछ कर न सकी। जब हमारे देश का कानून ही विकलंाक है तो उस देश की व्यवस्थाएं कैसी होगी?

आशाराम बापू के आश्रम में बच्चों की मौत का रहस्य अभी भी नहीं सुलझ सका है। यह मुद्दा तो मीडिया के जरिए लोगों तक पहुंचा था, इसके अलावा आज भी ऐसे कई मामले हैं जो मीडिया से सामने नहीं आ सके हैं। किशोरियों के साथ दुष्कर्म के मामले आए दिन बढ़ते जा रहे हैं। धर्म गुरूओं की इन हरकतों ने सम्पूर्ण भारत की आस्था पर चोट की हैं। इस पवित्र और निर्मल देश को जिन धर्म गुरूओं ने अपने विचारों और कर्मों से सिंचा है, आज उनकी मेहनत पर यह डोगी धर्म गुरू पानी फेर रहे हैं।

कुछ तो मर्यादा का ध्यान करो।
तुम हो विचारक, कुछ तो शर्म करो।।


Tuesday, November 4, 2008

भारतीयों और कालों के बीच खाई!

मनोज कुमार राठौर
भारतीय मूल के लोग ऑस्ट्रेलिया से लेकर इंग्लैंड तक रंगभेद के ख़िलाफ़ आवाज उठाते नजर आते हैं लेकिन कीनिया के मूल निवासी भारतीय मूल के लोगों को शोषितों में नहीं शोषकों में गिनते हैं। कीनिया के मूल निवासियों का कहना है कि भारतीय मूल के लोगों ने उनका शोषण किया है, हालाँकि भारतीय मूल के लोग इस बात से इनकार करते हैं।अगर आप सड़क पर चलने वाले आम काले कीनियाई व्यक्तियों से बात करें तो भारतीय मूल के लोगों के बारे में आपको कुछ ज्यादा अच्छे विचार सुनने को नहीं मिलेंगे। एक व्यक्ति ने मुझे बताया कि कुछ भारतीय तो अच्छे हैं, लेकिन सब वैसे नहीं हैं। उनमें लोगों का शोषण करने की मजबूत फितरत नजर आती है।

बुरा व्यवहार :
एक अन्य व्यक्ति ने कहा कि भारतीय मूल के लोग कीनिया में जाति व्यवस्था लाना चाहते हैं और उनका व्यवहार यहाँ के मूल काले लोगों के साथ बेहद बुरा है। यह भी सुना कि भारतीय मूल के लोग तो गोरे लोगों से भी बुरे हैं क्योंकि वो अफ्रीकी लोगों को कम वेतन देते हैं, और उन्हें नीचा भी दिखाना चाहते हैं।
करीब-करीब हर व्यक्ति से यही सुनने को मिला कि भारतीय मूल के लोग अपने सघन आबादी वाले इलाकों में रहते हैं और उनमें पार्कलैंड भी एक ऐसा ही इलाका है। भारतीय मूल के लोग आम तौर पर कीनियाई काले लोगों से दूरी बनाकर अपने ही लोगों के बीच रहना पसंद करते हैं।कई लोगों का यह भी मानना है कि भारतीय मूल के लोग सिर्फ अपने मतलब के लिए स्थानीय काले लोगों के साथ व्यापार करते हैं। उनकी यह भी शिकायत है कि भारतीय मूल के लोगों का एक पाँव कीनिया में और दूसरा पाँव भारत में रहता है। अगर देश में कोई संकट आता है तो वो देश से रफूचक्कर होने की पहले सोचते हैं। दिसंबर 2008 में जब कीनिया में चुनाव के वक्त हिंसा भड़की थी तो भारतीय मूल के बहुत से लोगों ने भारतीय उच्चायोग का रुख किया था।

अब तक पराऐ!
कीनियावासी काले लोगों की ये भी शिकायत है कि भारतीय मूल के लोग अपने बच्चों को भी स्थानीय काले लड़के-लड़कियों से ज्यादा मेलजोल बढ़ाने से मना करते हैं, शादी तो बहुत दूर की बात है। कुछ महीने पहले कीनिया के एक लड़के के भारतीय मूल की एक लड़की के साथ संबंधों पर बवाल खड़ा हो गया था।
ज्यादा जानकारी के लिए मैं नैरोबी विश्वविद्यालय पहुँचा और मैंने कुछ काले नौजवानों से पूछा कि क्या उनकी भारतीय मूल की कोई महिला मित्र है, या कोई भारतीय मूल का नौजवान किसी काली लड़की को जीवनसाथी बनाना चाहेगा? उनका कहना था कि वे जरूर चाहेंगे कि कोई भारतीय लड़की उनकी महिला मित्र बने, लेकिन उन्हें पता है कि लड़की के माता-पिता को ये बात पसंद नहीं आएगी। उनका ये भी कहना था कि जब किसी क्लब में भाँगड़ा पार्टी होती है तो भारतीय मूल के नौजवान एक गुट में रहना पसंद करते हैं।विश्वविद्यालय में हमारी मुलाकात हुई मेडिकल छात्रा लॉरेन से। लॉरेन ने हमें बताया कि उनका पहले एक कीनियाई मूल का पुरुष मित्र था, लेकिन इससे उन्हें कभी कोई समस्या नहीं हुई। उनका कहना है कि ये सच है कि भारतीय संस्कृति में ढेर सारे प्रतिबंध हैं। वो कीनिया में पली-बढ़ीं हैं और खुद को पहले कीनिया का ही मानती हैं।

दरक रहीं हैं दीवारें :
लॉरेन के दोस्त सुहेल की महिला मित्र एक कीनियाई काली लड़की है और वो उससे शादी करना चाहते हैं। वो मानते हैं कि एशियाई लोग अलग गुटों में रहना ज्यादा पसंद करते हैं और उन्हें नहीं मालूम कि ऐसा क्यों है। कीनिया में पले-बढ़े इन नौजवानों की सोच शायद अपने माता-पिता या दादा-दादी से अलग है।हम जा पहुँचे ईस्ट एफएम जो नैरोबी का एक प्रसिद्ध एशियाई रेडियो स्टेशन है। इस स्टेशन के मालिकों ने कुछ साल पहले मिस इंडिया कीनिया प्रतियोगिता शुरू की थी। ईस्ट एफएम के सीनियर प्रजेंटर गुरप्रीत ने बताया कि उनके कार्यक्रम में कई एशियाई लड़कियाँ फोन करके पूछती हैं कि वो किसी कीनियाई काले पुरुष के प्रति आकर्षित हैं और वो क्या करें। गुरप्रीत कहते हैं कि ये एक संवेदनशील मुद्दा है। अपने कार्यक्रम में वो अपने सुनने वालों से आग्रह करते हैं कि वो जवाब दें। उधर, भारतीय मूल के लोगों का कहना है कि उनका संपर्क काले समुदाय के लोगों से है तो, लेकिन शादी-ब्याह कुछ अलग-सी बात है।अफ्रीका हिंदू काउंसिल के अध्यक्ष मूलजीभाई पिंडोलिया कहते हैं कि काले कीनियाई लड़कों और भारतीय मूल की लड़कियों के बीच शादी कैसे हो सकती है। वो कहते हैं कि अधिकतर कीनियाई पुरुषों की एक से ज्यादा पत्नियाँ होती हैं क्योंकि कीनियाई समाज में एक से ज्यादा शादी की इजाजत है।
भारतीय मूल के लोग कहते हैं कि उन्होंने कीनिया के लिए बहुत कुछ किया है और उन्हें किसी समस्या के लिए जिम्मेदार ठहराना एक आसान रास्ता है।

Monday, November 3, 2008

जीना इसी का नाम है...


मनोज कुमार राठौर
जिंदगी के लिए आदर्श बनी
हारी जिंदगी को भी जी गई
अपनी अभिनव ,कलाओं से
वह आसमान को छू गई
ऐसे आगे बढ़़ते रहना ,सिर्फ तुम्हारा काम है
जीना इसी का नाम है-2...
देश के एक छोर से
एक नई रोशनी फूटी थी
एक नई किरण ले नया संदेशा
अग्निबाण सी छूटी थी
एक नई हवा ले ,नया राग ले
कुछ गाना ,जिसकी शान है
जीना इसी का नाम है-2...
पवन रोकती है मार्ग तुम्हारा
सरिता सा कारवा तुम्हारा
आशा की धारा हो तुम
कोई क्या रोकेगा ,इस लहर को
जो इस देश की आन है
जीना इसी का नाम है-2...
अम्बर से उतरी हो तुम
जीवन देने की मरू राहों में
नील गगन की परिवन के तुम
ज्ञान लुटाओ, चहूं दिशाओ में
तुम्हारे नाम से हमें अभिमान है
जीना इसी का नाम है-2...
तुफान थम गया स्वागत में
चारों मौसम राहांे में
तम के बादल छंटने लगे है
तुम्हें क्षितिज तक जाना है
गति जीवन की कभी न हो कम
इसका रखना तुम्हें ध्यान है
जीना इसी का नाम है-2...

Monday, October 27, 2008

अमीरों की दीवाली, गरीबों का दीवाला








मनोज
कुमार राठौर

हमारे देश में दीवाली का त्यौहार बडे़ धूमधाम से मनाया जाता है। बाजार में अनुमान से कहीं अधिक व्यवसाय होता है। मंदी के इस दौर में भी अरबों का कारोबार किया जा रहा है, लेकिन मंदी की गाज अमीरों पर नहीं गिरी, शायद दीवाली मनाने का हक उन्हे ही है। गरीबों का दीवाला निकल रहा है।

जहां एक ओर बाजार में सोना, चांदी, दो पहिया वाहन, इलेक्ट्राॅनिक सामान, कपड़ा, पटाखे, क्राकरी, फर्नीचर और सजावटी सामान के अलावा प्रापर्टी की खरीदी हो रही है। दूसरी ओर किसी ने यह अंदाजा लगाया है कि यह खरीदी कौन कर रहा है? कोई आम आदमी तो यह खरीदी नहीं कर सकता है क्योकि वह दिन भर मजदूरी करता है जब जाकर उसका पेट भरता है। ऐसे में वह दीवाली कैसे मनाऐगां ? बस वह आसमान की आतिषबाजी को देखकर संतुष्ट हो सकता है। बाजारों में मिष्ठान भंडारों में तरह-तरह की मिठाईयां सजी होती है, बस वह उसकों एक नजर देखकर अपना जी भर लेगा। नये कपड़ों का सपना सजाए मन में वह उसकी कल्पना ही कर सकता है। गरीब व्यक्ति जब दिन भर काम कर अपना पेट पालता है तो वह दीवाली की इस चकाचैंद को कैसे पूरा कर पाएग ? अब आप भी यह समझ गए होगें की दीपावी किस का त्यौहार है।

मध्यप्रदेष में स्थि गंजबासौदा निवासी एक परिवार ने आर्थिक तंगी के परेशान होकर जहर खा लिया। परिवार में छः सदस्य थे सभी की मौके पर ही मौत हो गई। ऐसे ही कई उदाहरण है जिसमें लोग आर्थिक तंगी के चलते अपने परिवार का पालन-पोषण नहीं कर पाते हैं और उनके सामने आखिरी रास्ता मौत का बचता है। इस आर्थिक मंदी के चते एक आम आदमी दीवाली कैसे मनाऐगा ? लोग कहते है कि लक्ष्मी की पूजा करने से घर में धन की बरसात होती है। पर गरीब को तो अपने पेट पालने के लाले पढ़े हैं ऐसे में वह क्या पूजा पाठ करेगा? दीवाली तो मानो धन का त्यौहार है। जिसके पास धन उसी की दीवाली। जिसके पास धन नहीं उसका दीवाला।

Saturday, October 25, 2008

वेब पत्रकार संघर्ष समिति का गठन : सुशील प्रकरण

एचटी मीडिया में शीर्ष पदों पर बैठे कुछ मठाधीशों के इशारे पर वेब पत्रकार सुशील कुमार सिंह को फर्जी मुकदमें में फंसाने और पुलिस द्वारा परेशान किए जाने के खिलाफ वेब मीडिया से जुड़े लोगों ने दिल्ली में एक आपात बैठक की। इस बैठक में हिंदी के कई वेब संपादक-संचालक, वेब पत्रकार, ब्लाग माडरेटर और सोशल-पोलिटिकिल एक्टीविस्ट मौजूद थे। अध्यक्षता मशहूर पत्रकार और डेटलाइन इंडिया के संपादक आलोक तोमर ने की। संचालन विस्फोट डाट काम के संपादक संजय तिवारी ने किया। बैठक के अंत में सर्वसम्मति से तीन सूत्रीय प्रस्ताव पारित किया गया। पहले प्रस्ताव में एचटी मीडिया के कुछ लोगों और पुलिस की मिलीभगत से वरिष्ठ पत्रकार सुशील को इरादतन परेशान करने के खिलाफ आंदोलन के लिए वेब पत्रकार संघर्ष समिति का गठन किया गया।

इस समिति का संयोजक मशहूर पत्रकार आलोक तोमर को बनाया गया। समिति के सदस्यों में बिच्छू डाट काम के संपादक अवधेश बजाज, प्रभासाक्षी डाट काम के समूह संपादक बालेंदु दाधीच, गुजरात ग्लोबल डाट काम के संपादक योगेश शर्मा, तीसरा स्वाधीनता आंदोलन के राष्ट्रीय संगठक गोपाल राय, विस्फोट डाट काम के संपादक संजय तिवारी, लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार अंबरीश कुमार, मीडिया खबर डाट काम के संपादक पुष्कर पुष्प, भड़ास4मीडिया डाट काम के संपादक यशवंत सिंह शामिल हैं। यह समिति एचटी मीडिया और पुलिस के सांठगांठ से सुशील कुमार सिंह को परेशान किए जाने के खिलाफ संघर्ष करेगी। समिति ने संघर्ष के लिए हर तरह का विकल्प खुला रखा है।

दूसरे प्रस्ताव में कहा गया है कि वेब पत्रकार सुशील कुमार सिंह को परेशान करने के खिलाफ संघर्ष समिति का प्रतिनिधिमंडल अपनी बात ज्ञापन के जरिए एचटी मीडिया समूह चेयरपर्सन शोभना भरतिया तक पहुंचाएगा। शोभना भरतिया के यहां से अगर न्याय नहीं मिलता है तो दूसरे चरण में प्रतिनिधिमंडल गृहमंत्री शिवराज पाटिल और उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती से मिलकर पूरे प्रकरण से अवगत कराते हुए वरिष्ठ पत्रकार को फंसाने की साजिश का भंडाफोड़ करेगा। तीसरे प्रस्ताव में कहा गया है कि सभी पत्रकार संगठनों से इस मामले में हस्तक्षेप करने के लिए संपर्क किया जाएगा और एचटी मीडिया में शीर्ष पदों पर बैठे कुछ मठाधीशों के खिलाफ सीधी कार्यवाही की जाएगी।

बैठक में प्रभासाक्षी डाट काम के समूह संपादक बालेन्दु दाधीच का मानना था कि मीडिया संस्थानों में डेडलाइन के दबाव में संपादकीय गलतियां होना एक आम बात है। उन्हें प्रतिष्ठा का प्रश्न बनाए जाने की जरूरत नहीं है। बीबीसी, सीएनएन और ब्लूमबर्ग जैसे संस्थानों में भी हाल ही में बड़ी गलतियां हुई हैं। यदि किसी ब्लॉग या वेबसाइट पर उन्हें उजागर किया जाता है तो उसे स्पोर्ट्समैन स्पिरिट के साथ लिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि संबंधित वेब मीडिया संस्थान के पास अपनी खबर को प्रकाशित करने का पुख्ता आधार है और समाचार के प्रकाशन के पीछे कोई दुराग्रह नहीं है तो इसमें पुलिस के हस्तक्षेप की कोई गुंजाइश नहीं है। उन्होंने संबंधित प्रकाशन संस्थान से इस मामले को तूल न देने और अभिव्यक्ति के अधिकार का सम्मान करने की अपील की।

भड़ास4मीडिया डाट काम के संपादक यशवंत सिंह ने कहा कि अब समय आ गया है जब वेब माध्यमों से जुड़े लोग अपना एक संगठन बनाएं। तभी इस तरह के अलोकतांत्रिक हमलों का मुकाबला किया जा सकता है। यह किसी सुशील कुमार का मामला नहीं बल्कि यह मीडिया की आजादी पर मीडिया मठाधीशों द्वारा किए गए हमले का मामला है। ये हमले भविष्य में और बढ़ेंगे।विस्फोट डाट काम के संपादक संजय तिवारी ने कहा- ''पहली बार वेब मीडिया प्रिंट और इलेक्ट्रानिक दोनों मीडिया माध्यमों पर आलोचक की भूमिका में काम कर रहा है। इसके दूरगामी और सार्थक परिणाम निकलेंगे। इस आलोचना को स्वीकार करने की बजाय वेब माध्यमों पर इस तरह से हमला बोलना मीडिया समूहों की कुत्सित मानसिकता को उजागर करता है। उनका यह दावा भी झूठ हो जाता है कि वे अपनी आलोचना सुनने के लिए तैयार हैं।''लखनऊ से फोन पर वरिष्ठ पत्रकार अंबरीश कुमार ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कई पत्रकार पुलिस के निशाने पर आ चुके हैं। लखीमपुर में पत्रकार समीउद्दीन नीलू के खिलाफ तत्कालीन एसपी ने न सिर्फ फर्जी मामला दर्ज कराया बल्कि वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के तहत उसे गिरफ्तार भी करवा दिया। इस मुद्दे को लेकर मानवाधिकार आयोग ने उत्तर प्रदेश पुलिस को आड़े हाथों लिया था। इसके अलावा मुजफ्फरनगर में वरिष्ठ पत्रकार मेहरूद्दीन खान भी साजिश के चलते जेल भेज दिए गए थे। यह मामला जब संसद में उठा तो शासन-प्रशासन की नींद खुली। वेबसाइट के गपशप जैसे कालम को लेकर अब सुशील कुमार सिंह के खिलाफ शिकायत दर्ज कराना दुर्भाग्यपूर्ण है। यह बात अलग है कि पूरे मामले में किसी का भी कहीं जिक्र नहीं किया गया है।बिच्छू डाट के संपादक अवधेश बजाज ने भोपाल से और गुजरात ग्लोबल डाट काम के संपादक योगेश शर्मा ने अहमदाबाद से फोन पर मीटिंग में लिए गए फैसलों पर सहमति जताई। इन दोनों वरिष्ठ पत्रकारों ने सुशील कुमार सिंह को फंसाने की साजिश की निंदा की और इस साजिश को रचने वालों को बेनकाब करने की मांग की।बैठक के अंत में मशहूर पत्रकार और डेटलाइन इंडिया के संपादक आलोक तोमर ने अपने अध्यक्षीय संबोधन में कहा कि सुशील कुमार सिंह को परेशान करके वेब माध्यमों से जुड़े पत्रकारों को आतंकित करने की साजिश सफल नहीं होने दी जाएगी। इस लड़ाई को अंत तक लड़ा जाएगा। जो लोग साजिशें कर रहे हैं, उनके चेहरे पर पड़े नकाब को हटाने का काम और तेज किया जाएगा क्योंकि उन्हें ये लगता है कि वे पुलिस और सत्ता के सहारे सच कहने वाले पत्रकारों को धमका लेंगे तो उनकी बड़ी भूल है। हर दौर में सच कहने वाले परेशान किए जाते रहे हैं और आज दुर्भाग्य से सच कहने वालों का गला मीडिया से जुड़े लोग ही दबोच रहे हैं। ये वो लोग हैं जो मीडिया में रहते हुए बजाय पत्रकारीय नैतिकता को मानने के, पत्रकारिता के नाम पर कई तरह के धंधे कर रहे हैं। ऐसे धंधेबाजों को अपनी हकीकत का खुलासा होने का डर सता रहा है। पर उन्हें यह नहीं पता कि वे कलम को रोकने की जितनी भी कोशिशें करेंगे, कलम में स्याही उतनी ही ज्यादा बढ़ती जाएगी। सुशील कुमार प्रकरण के बहाने वेब माध्यमों के पत्रकारों में एकजुटता के लिए आई चेतना को सकारात्मक बताते हुए आलोक तोमर ने इस मुहिम को आगे बढ़ाने पर जोर दिया।बैठक में हिंदी ब्लागों के कई संचालक और मीडिया में कार्यरत पत्रकार साथी मौजूद थे।
((इस पोस्ट को कापी करके आप अपने-अपने ब्लागों-वेबसाइटों पर प्रकाशित करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक यह संदेश पहुंचाया जा सके और वेब माध्यम के जरिए सुशील कुमार की लड़ाई को विस्तार दिया जा सके।))

Friday, October 24, 2008

नेताओं के भाषण में मानव मुक्ति

मनोज कुमार राठौर
नेताओं के भाषण मानव मुक्ति का गौण द्वार है। कर्म, धर्म, पाप, भ्रष्टाचार, बेईमानी और मोक्ष नेताओं के भाषण में समाहित रहते हैं। एक नेता जब अपने भाषण की उद्घोषणा करता है तो वह अपनी पार्टी का विश्वास जनता के प्रति जताता है। लगता है कि नेताजी ने जनता के लिए कोई भविष्यवाणी कर दी हो। नेताजी कहते है कि हमारी पार्टी यदि सत्ता में आती है तो हम इस क्षेत्र का नक्शा ही बदल देगें। सम्मानिय नेताजी यह नहीं जानते हैं कि पहले अपने विचारों के नक्शा को बदले बाद में क्षेत्र की बात करे। बेरोजगारी, गरीबी और भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने में इन महाशय का महत्वपूर्ण योगदान है। विकास के प्रति नेताओं की भूमिका नकारात्मक हैं, भाई साहब सकारात्मता की ओर सोचते ही नहीं। नेताओं की पीढ़ी धीरे-धीरे भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ती जा रही हैं। आज के युग में जितने भी घोटले या गैर कानूनी काम होते हैं उनके पीछे नेताओं का हाथ जरूर रहता है। मतलब यह हुआ कि नेताओं की दम पर उनके साथी हवाई उड़ाने भरते हैं। देष के सभी नेता अपने मुंह पर भ्रष्टाचार का नाकाप लगाकर देष के वातावरण को दूषित कर रहे हैं। किसी ने सही कहा है कि सफेद पोशाक के पीछे काले शैतान का वास होता है। भारत देश के सुधारकों की अग्निपरिक्षा ली जाए तो वह भी हमाम में नगें खडे़े दिखाई देगें। नेताओं के भाषणवाद से ऐसा लगता है कि वह मानवता को मुक्ति धाम तक एक न एक दिन अवश्य पहुंचा देगें।
नेताओं के भाषण में क्या है?
यह सबको नज़र आता है।

Monday, October 20, 2008

चुनावों का शंखनाद

नेताओं की अग्निपरीक्षा का समय आ गया है। चुनावों की इस घमासान लड़ाई में नेताओं की क्या प्रतिक्रिया रहती है, इसी को अपनी कविता के माध्यम से लिखने की कोशिश कर रहा हूँ।
मनोज कुमार राठौर



चुनावों का शंखनाद
नेताओं के आश्वासन
पार्टियों के घोषणा पत्र
सभी हैं दिखावे
हमें अपना काम करने दो।



घोषणाओं का अंबार
कार्य के प्रति कर्मठ
सत्ता बनेगी तो काम करेगें
सभी हैं दिखावे
हमें अपना काम करने दो।


रैली और पद यात्रा
झुग्गी-बस्ती का दौरा
जनता के छूते पैर
सभी हैं दिखावे
हमें अपना काम करने दो।


जातिगत वोटों को बढ़ावा
भाषण में सामप्रदायिकता
सरकारी नौकरी का लालच
सभी हैं दिखावे
हमें अपना काम करने दो।


जेब गरम करने का तरिका
भ्रष्टाचार के तुम पुतले
आंखों से काजल मत चुराओं
सभी है दिखावे
हमें अपना काम करने दो


मौसम आते और जाते हैं
जो बोलो वह करके दिखाओ
झुठ मत बोलो भाई
सभी हैं दिखावे
हमें अपना काम करने दो।

Friday, October 17, 2008

दैनिक जागरण की लापरवाही

मनोज कुमार राठौर
विश्व का सर्वाधिक पढ़ा जाने वाला अखबार क्या कोई गलती कर सकता है? नहीं, यही सबका जबाव होगा। दैनिक जागरण के 14 अक्टूबर के अंक में पेज नम्बर 3 (भोपाल जागरण) में परीक्षा परिणाम घोषित हैडिंग से एक सिंगल काॅलम खबर छपी। इसमें लिखा था कि बरकतउल्ला विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित बीएससी अंतिम वर्ष 2007-08 की पूरक परीक्षा के परिणाम सोमवार को घोषि कर दिए गए। परीक्षा परिणाम की जानकारी विवि के नोटिस बोर्ड अथवा वेबसाइट डब्लूडब्लूडब्लू डाट बीयूभोपाल डाट एनआईसी डाट इन पर देखी जा सकती है। जब बीएससी के पूरक छात्र सोनी ने यह खबर पढ़ी तो वह तुरंत इंटरनेट पर परीक्षा परिणाम खंगालने लगा, पर उसके हाथ निराशा ही लगी क्योकि इंटरनेट पर परीक्षा परिणाम होता तो मिलता। इसके बाद वह सीधे बरकतउल्ला विश्वविद्यालय गया, लेकिन वहां भी कोई लिस्ट नहीं लगी थी। उसने जब पूछताछ काउटंर पर इसकी जानकारी ली तो पता चला कि दैनिक जागरण ने बीसीए के स्थान पर बीएससी छाप दिया। हालांकि छात्रों ने बताया कि यही खबर दैनिक भास्कर में सही छपी।
दैनिक जागरण की इस खबर का पाठक वर्ग पर क्या प्रभाव पड़ा होगा? यह मान लिया जाए कि उनसे इस खबर में छोटी सी त्रुटि हुई है, लेकिन दैनिक जागरण का इस पर ध्यान केन्द्रित नहीं हुआ और उन्होंने अपने अगले अंक 15 अक्टूबर में इस संदर्भ में कुछ भी नहीं छापा। दैनिक जागरण शायद यह भूल गया है कि यदि किसी अखबार से खबर में कोई गलती होती है तो वह अपने दूसरे अंक में प्रतिक्रिया जरूर देता है, लेकिन दैनिक जागरण ने इस आवष्यक नहीं समझा। माना यह दैनिक जागरण के पेज इंचार्ज की गलती है पर अखबार के सम्पूर्ण पेज की जिम्मेदारी तो संपादक महोदय जी की होती है। उन्होंने भी इस खबर को छोटी समझ कर हल्के में जाने दिया। मुझे लगता है कि दैनिक जागरण के किसी भी कर्मचारी ने इस छोटी सी संदेषात्मक खबर पर ध्यान नहीं दिया। दैनिक जागरण चाहता तो अपने अगले अंक 15 अक्टूबर को इस गलत खबर पर भूल-चुक या फिर इसकी त्रुटि को सही करके दोबारा खबर छापता। जागरण की नीति क्या है? यह तो इस खबर से पता चलता है। गलती छोटी हो या फिर बड़ी, गलती तो गलती होती है।
अखबारों की दुनिया में दैनिक जागरण का अपनी अलग पहचान है लेकिन यह लापरवाही तो उसकी आंतरिक संरचना की पोल खोलती है।

Thursday, October 16, 2008

देशहित में है चुनाव का एक साथ होना




मनोज कुमार राठौर
हमारे देश में चुनावी बजट का किसको ख्याल है? चुनाव आते ही सभी राजनीतिक दल अपने-अपने राग अलापने लगते हंै। लोकतंत्र की इस अर्थव्यवस्था में विधानसभा, लोकसभा चुनाव और अन्य छुट-पुट चुनाव होते रहते हैं। सभी चुनाव अलग-अलग समय अवधि में कराए जाते हैं जिसमें समय और धन की बर्बादी होती है। जनता भी बार-बार चुनावों में भाग लेने मे कतराती हैं इसीलिए हर साल वोटिंग का प्रतिशत कम होता जा रहा है। चुनाव आयोग को ऐसी व्यवस्था करना चाहिए जिसमें सभी चुनाव एक ही समय में हो सके। ऐसा करने से देश को आर्थिक रूप से सुदृढ़ता प्राप्त होगी। पिछले लोकसभा चुनाव में 1350 करोड़ रुपए खर्च हुए थे। इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि जब तीन बार चुनाव होते हैं तो उसमें 4350 करोड़ रुपए की खर्चा आता है। चुनाव आयोग यह 4350 करोड़ रुपए बचाकर इसे देश के विकास कार्यों में लगाया जा सकता है। चुनाव आयोग की आंखों पर यह काली पट्टी कब तक बंदी रहेगी?

चुनाव आयोग को 45 वर्ष पुरानी रणनीति अपनाना चाहिए। 45 वर्ष पहले तक देश में लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ होते थे। चुनाव हुए, सरकारें बनीं और फिर पांच साल जनहित के कामों पर ध्यान। लेकिन आपातकाल के बाद बदली राजनीतिक परिस्थितियों ने इस परंपरा को इतिहास बना दिया और 1977 के बाद से तो राजनीतिक प्रतिशोध के चलते राज्य विधानसभाओं को भंग करने की होड़ और सत्ता के पायदान तक पहंुचने के लए शुरू हुए दलबदल के खेल ने जल्दी-जल्दी चुनाव का ऐसा रास्ता खोला जो बंद होने का नाम ही नहीं ले रहा है। पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने पिछले महीने एक न्यूज चैनल के समारोह में कहा था कि सभी संवैधानिक संस्थाओं के चुनाव एक ही दिन में कराए जाने चाहिए। हालांकि सभी तरह के चुनाव एक ही दिन में कराने का विचार अव्यावहारिक लगता है, लेकिन यदि सभी राजनीतिक दल इस पर राजी हो जाऐ, तो यह सपना पूरा हो सकता है। यदि हम हर समय चुनाव में ही व्यस्त रहे तो विकास का लक्ष्य कैसे हासिल किया जा सकता है, यह सोचने की बात है। एपीजे अब्दुल कलाम भी चाहते है कि चुनावों को एक साथ कराना चाहिए जो विकास के लिए अति आवष्यक है। हमारे देश के पूर्व उप राष्ट्रपति भैंरोसिंह शेखावत ने कहा कि लोकसभा और विधानसभाओं के चुनाव पांच साल बाद एक निष्चित अवधि में एक साथ कराए जाने चाहिए। यदि किसी सरकार को अविष्वास प्रस्ताव के माध्यम से अपदस्थ करने की कोशिस की जाए तो ऐसी स्थिति में पहले ही वैकल्पिक सरकार गठन की व्यवस्था का प्रावधान भी होना चाहिए। अपरिहार्य स्थिति में राज्य सरकार को भंग करना भी पड़े तो ऐसे चुनाव विधानसभा की शेष अवधि के लिए ही कराए जाने चाहिए। शेखावत ने भी स्पष्ट कहा है चुनाव को एक निष्चित अवधि में कराए जाना चाहिए और चुनाव में वैकल्पिक प्रावधान भी होना चाहिए। पूर्व चुनाव आयुक्त डाॅ। जीवीहजी कृष्णामूर्ति ने अजीत मैदोला को बताया कि लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ होने चाहिए। लेकिन हमारे देश में संविधान सर्वोपरि है और उसकी अवहेलना नहीं की जा सकती। इसके चलते लोकसभा और विधानसभा का चुनाव एक साथ कराया जाना संभव नहीं हो पा रहा है। उन्होंने कहा कि इस समय राजस्थान समेत छह राज्यों के विधानसभा चुनाव होने है ओर उस के तुरंत बाद लोकसभा चुनाव। अच्छा हो कि छह राज्यों के चुनाव और लोकसभा चुनाव एक साथ कराए जाएं। चुनाव एक साथ कराने से कई फायदे हैं। एक तो आम आदमी की चुनाव के प्रति रूचि बनी रहती है,दूसरा खर्चा कम होता है ओर सभी राजनीतिक दलों को भी लाभ होता है। उन्होने कहा कि 1952 से लेकर 1962 तक लोकसभा और विधानसभा के चुनाव साथ-साथ होते थे और एक दिन में ही पूरे देश में चुनाव सम्पन्न हो जाते थे। इससे आम आदमी तो वोट डालने जाता ही था, सरकारी कर्मचारियों को भी राहत मिलती थी। अब विधानसभा ओर लोकसभा के चुनाव एक साथ हो सकते हैं। मेरा सुझाव यह है कि बड़े राज्यों में तीन चरणों में, मध्यम राज्यों मे दो चरणों में और छोटे राज्यों में एक चरण में चुनाव हो सकते हैं। चरणों में चुनाव कराने के पीछे मकसद एक ही होता है कि पर्याप्त सुरक्षा बल उपलब्ध हो जाते है और चुनाव निष्पक्ष और साफ-सुथरे ढंग से कराए जाते हैं।

लोकसभा, विधानसभाओं और स्थानीय पालिका-पंचायतों के चुनाव अलग-अलग होने से जहां चुनाव खर्च सामान्य से तीन गुना तक बढ़ जाता है, वही अलग-अलग चुनाव होने से आचार संहिता के चलते सामान्य कामकाज प्रभावित होते है। पिछले लोकसभा चुनाव में लगभग 1350 करोड़ रुपए खर्च हुए थे। राज्य विधानसभाओं व सभी राज्यों में पालिका-पंचायत के खर्चे भी लगभग 30000 करोड़ रुपए बैठते है। यानी एक साथ चुनाव होने पर जो खर्च 1350 करोड़ ही हो वह तीन बार अलग-अलग चुनाव होने पर लगभग4350 करोड़ आता है। चुनाव की एक धारा की बात को चुनाव आयोग को अलापना चाहिए। चुनाव के एक साथ करना देषहित में है। भारत देश शनैहशनैह विकास कर रहा है, ऐसे में यह पैसा उसके विकास कार्यों में लगाया जाए तो देश की विकास गति की गति में तीव्रता लाई जा सकती है।

Wednesday, October 15, 2008

स्वतंत्र भारत का असली चेहरा

मनोज कुमार राठौर
स्वतंत्रता के इन वर्षों में भारत ने क्या खोया, क्या पाया। इसको आज भारत के दर्पण में साफ देखा जा सकता है। सन् 1857 का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के शंख नाद की गूंज अभी तक सुनाई देती है, जो भारतवासियो को इस ओर इसारा करती है कि आज भी देश पूरी तरह से स्वतंत्र नही हो पाया है। भारत भ्रष्ट गुलामी की जिंदगी बसर कर रहा है। आजादी में लड़ने वाले दिवानों ने क्या इस भारत की कल्पना की थी जिस ओर भारत अग्रसर है? देश के कानून बनाने वाले ही इस कानून की मर्यादा को भंग कर रहे हैं।

मां के इन लालो ने अपने खून से आजाद तिरंगे को सिंचा है, तब जाकर हम इस आजाद भारत की कल्पना कर पाए हैं। पर इस भारत में उन राक्षकों का भी ढेरा है जो जिस थाली में खाते है उसी में छेद करते हैंै। आजादी के बाद हुए जीप घोटाला, बैंक घोटाला, चीनी घोटाला, जमीन घोटाला, खाद्यान्न घोटाला, डेयरी घोटाला, चारा घोटाला, शेयर घोटाला और दवा घोटाला जैसे न जाने कितने घोटाले हो चुके हैं जो गरीब के खून पसीने की कमाई में से किये गए हैं। जब भी इस तरह के घोटाले होते है तो कोई डकार तक नहीं लेता। क्या आजाद होने का यह मतलब है? तो फिर देश अंग्रेजों के हाथ में ही ठीक था। भारत के संविधान निर्माताओ के द्वारा बनाए गए नियमांे का पालन उनके अंगरक्षक द्वारा किया जाना था, पर ऐसे संभव नही पाया और वही अंगरक्षक उन नियमों की धज्जियां उड़ाते दिखते हैं। मध्यप्रदेश की विधानसभा में अध्यक्ष की आसंदी पर जो काले दुपट्टे फेकें गए थे उससे ऐसा लगता है कि नेताओं को यह मालूम नही था कि वह उस पवित्र मंदिर में खडे़ है जिसकी पूजा पूूरा देश करता है। इस घटना के बाद हुए नोट कांड ने तो आजादी के सपनें को चक्माचूर कर दिया। संसद में हुए नोट कांड ने तो संसद की मर्यादा को ताख पर रख दिया। जिस तरह से नोटों की गड्डी संसद में उछाली जा रही थी इससे ऐसा लग रहा था कि वहां पर कोई नाच गाना हो रहा है। नोटों की इस नुमाईश ने आजाद भारत को शर्मशार के साथ उस आजाद भारत कल्पना पर सवालियां निशान लगा दिया है।

एक समय ऐसा था कि देश के लिए लोग मर मिटने को तैयार रहते थे चाहे वह सुखदेव हो या फिर भक्तसिंह। देशभर में इन देशभक्तों चर्चे थे, जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा के लिए अपना बलिदान दिया। स्वतंत्रता के समय इन देशभक्तों को राष्ट्रीय विद्रोह का दर्जा दिया गया लेकिन कं्रातिकारियों ने यह विद्रोह जारी रखा। काल मार्कस् ने अगे्रंजों द्वारा किए गए अत्याचारों और क्रांतिकारियों के अभियानों पर न्यूयार्क डेली ट्रिब्यून में 28 जुलाई 1857 कें अंक में लिखा था कि भारतीयों उथल-पुथल कोई सैनिका कार्यवाही नहीं है, बल्कि एक राष्ट्रीय विद्रोह है। उन्होंने दावा किया कि धीरे-धीरे ऐसे तथ्य सामने आते जायेंगें जिनसे स्वयं जाॅन बुल को विष्वास हो जाएगा कि जिसे वह सिपाही विद्रोह समझते हैं वह वास्तव में एक राष्ट्रीय विद्रोह है। मार्कस् ने विद्रोह में विभिन्न समुदायों की एकता का उल्लेख करते हुये 30 जून 1857 को लिखा कि मुसलमान और हिन्दू अपने समान मालिकों के खिलाफ एक हो गये। भारत देश को स्वतंत्र कराने में क्रांतिकारियों ने जिन मुसिबतों का सामना किया है जो आज भारत देश के लिए मिशाल बन गया है। अग्रेंजों की जंजीरों से भारत को आजाद कराने के बाद आजादी की इस मशाल को हमारी सीमा पर तैनात जवानों ने थामा। देश की सुरक्षा की जिम्मेदारी इन्होंने अपने कधें पर ले ली। इस जिम्मेदारी को पूरा करने में कई सैनिकों ने अपना बलिदान भी दे दिया। इन बलिदानों को लोग भूल रहे है, बस उनकी याद 15 अगस्त को कर ली जाती है और बाकी दिन उनके स्वतंत्र भारत को ,फिर से गुलामी की जंजीरों में जकड़ दिया जाता है। हमारे देश में ही यह स्थिति है कि एस.ई.जेड. का विरोध करने वाले ग्रामीणों पर फायरिंग की गई। सत्य बात तो यह है कि उस घटना के पीछे कोई भी व्यक्ति दोसी नहीं पाया गया। जिस तरह इन श्रमिकों पर लाठियां और फायरिंग की गई इस घटना से जलियांवाला बाग की यादें ताजा कर दी। हमारे देश का दुर्भाग्य यह है कि जहां कानून के रक्षक ही भक्षक बन जाएगें, तो इस देश की रक्षा कौन करेगा?

आज धर्म के नाम पर होते जातिगत दंगे, जो कई बेकसूर लोगों की तबाही के कारण बनते हैं। बाबरी मस्जिद कांड हो या फिर राम मंदिर विवाद, जिस पर कई समुदाय आमने सामने थे। इस आजाद भारत में जहां सबका मालिक है तो फिर ऐसा क्यो किया जाता है। यह सब तो उन नेताओं की करतूत होती है जो वोट पाने के लिए यह शर्मशार खेल खेलते हैं। जिस देश में ऐसे नेताओं का वास होगा वह तो आजाद कभी नहीं हो सकता। गंगादास आश्रम के 367 साधुओं ने वीरंागना लक्ष्मीबाई को बचाने के लिए फिरंगी सेना से लड़ते-लड़ते जीवन बलिदान दे दिया था और सैकड़ों घायल हुये व अंग्रेजी सेना के दमन का शिकार कर होने बावजूद भी इन वीर साधुओं ने महारानी लक्ष्मीबाई का शव भी अग्रंेजों के हाथ नहीं आने दिया और बड़ी शाला की घास की गंजी में आग लगा कर लक्ष्मीबाई को अग्नि संस्कार कर दिया। इन साधुओं का बलिदान इतिहास बन गया है जिन्होंने अपनी मिट्टी के साथ बेईमानी नही की। जो न धर्म को को लेकर लड़े। बस उनका एक लक्ष्य था भारत देश को आजाद कराना। जिसके प्रति झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की रक्षा के लिए अपना बलिदान तक दे दिया। फिर भारत जैसी पवित्र भूमि पर जातिगत विवाद क्यो गहराता जा रहा है।

15 अगस्त के दिन इन शहिदों को सम्मानपूर्वक श्रद्धाजंली दी जाती है और इसी दौरान नेताओं द्वारा भाषण भी दिये जाते है जो देश भक्ति से ओतप्रोत होते हैं। पर नेता अपना कर्तव्य भूल जाते है कि देष की स्वतं़़़त्रता को भी संभाल के रखना है। देश की हर दिशा गुलामी की जंजीरों से बंदी है जिसमें जंजीरे भी हमारी है और देश भी हमारा। आतंकवाद, खूस खोरी, बेईमानी, भ्रष्टाचार और अपराध जो देष के लिए समस्या है। वही देश को गुलाम कर रहे हैं।

अब छोड़ो यह भ्रष्टाचारी।
देश की रक्षा तुम्हारी जिम्मेदारी ।।

Tuesday, October 14, 2008

आजादी थी तुम बिन अधुरी

मनोज कुमार राठौर
भारत की आजादी के इतिहास में जिन शूरवीरों ने अंग्रेजों को लोहे के चने चबाने के लिए मजबूर किया था, जिन्होंने भारत को गुलामी की बेडियों से छुडवाया और स्वतंत्रता का मार्ग प्रशस्त किया। जिन शूरवीरों पर भारत जन्मभूमि को गर्व है, उनमें से एक हैं-भगतसिंह। इस महान देशभक्त का जन्म 27 सितम्बर 1907 को पंजाब के जिला लायलपुर में बंगा गांव (पाकिस्तान) में हुआ। यह एक विचित्र संयोग ही था कि जिस दिन इनका का जन्म हुआ उसी दिन उनके पापा और चाचा को जेल से रिहा किया गया था। इस शुभ अवसर पर उनके घर में खुशी की लहर दौड़ उठी और भगत सिंह की दादी ने बच्चे का नाम भागा रखा। भागा अच्छे भाग वाले को कहते हैं इसीलिए इनका का नाम भारत में भगतसिंह के नाम से प्रसिद्ध हुआ। भारत को स्वतंत्रता दिलावाने में भगतसिंह की भूमिका महत्वपूर्ण थी। इस यौद्धा के बिना आजादी अधुरी थी। आजादी की इस हवा को भगतसिंह ने नई दिशा प्रदान की थी।

भगतसिंह के मन में बचपन से ही देशभक्ति की भावना थी। अपनी प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के पश्चात उन्होंने सन् 1916-1917 में लाहौर के डीएवी स्कूल में प्रवेश लिया। वहां उनका संपर्क लाला लालजपतराय और अम्बा प्रसाद जैसे कर्मठ देशभक्तों से हुआ जिनसे उन्होंने काफी प्रेरणा भी मिली। सन् 1919 में रोलेट एक्ट के विरोध में संपूर्ण भारत वर्ष में प्रदर्शन हो रहे थे और इसी वर्ष 13 अप्रैल को जलियांवाला बाग काण्ड हुआ। इस घटना के समाचार सुनकर भक्तसिंह लाहौर से अमृतसर चले गए और वहां का मंजर देखकर उनका खून खोल उठा। रक्त से भीगी मिट्टी उस मंजर को खुद बयान कर रही थी। भक्तसिंह ने उसी जगह खड़े होकर प्रतिज्ञा ली कि इस अंग्रेज शासन को में जड़ से उखाड़ फेकुगां। भक्तसिंह की इस प्रतिज्ञा के बाद से एक ही लक्ष्य बन गया था भारत को आजाद कराना। बस यह चिंगारी उनके दिल में जलती गई। सन् 1920 के महात्मा गांधी के असहयोग से प्रभावित होकर 1921 में भगतसिंह ने स्कूल छोड़ दिया। दिल में देशभक्ति का जज्बा लिए सन् 1924 में कानपुर के दैनिक पत्र प्रताप के संचालक गणेशकर विद्यार्थी से भेंट की। इसी भेट के कारण वह बटुकेशवर दत्त और चंद्रशेखर आजाद के संपर्क में आए। इससे उन्हें अपने लक्ष्य तक पहुचने का रास्ता मिल गया और वह हिन्दुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन के सदस्य बन गए। अब भगतसिंह पूर्ण रूप से कं्रातिकारी कार्याे तथा देश सेवाओं के लिए समर्पित हो गए थे। सन् 1926 में अपने तत्वाधान में नौजवान भारत सभा का गठन किया जिसमें सभी धर्मों के लोगों को उन्होंने सौगंध दिलाई की छुआ-छुूत और जातिवाद से बढ़कर देश हितों को मानेगें। ब्रिटिश सरकार ने इस सभा की खबर सूनी तो उन्होंने दांतो तले ऊगंलियां दबा ली।

30 अक्टूबर, 1928 का वह दृष्य बड़ा खौफनाक था जब साइन कमीशन लाहौर पहंुचा और इसी के विरोध में लाला लाजपत राय के नेतृत्व में शातिपूर्ण तरीके से एक जुलूस निकाला गया। इस जुलूस को रोकने के लिए ब्रिटिश सरकार के सहायक अधीक्षक साण्डर्स ने प्रदर्शनकारीयों पर लाठी चार्ज की। लाला लाजपत राय पर भी अनगिनत लाठियां बरसाई गई जिससे वह लहूलुहान हो गए। यह सब दृष्य भगतसिंह अपनी आंखों से देख रहे थे। उनकी आंखों के सामने ही लाला लाजपत राय परमात्मा में विलिन हो गए। यह सब कुछ देखकर उनका उनके दिल में बदले की भावना पैदा हुई और इस बदले को पूरा करने के लिए साण्डर्स को मारने का षड़यंत्र रचा गया। साण्डर्स को मौत के घाट उतार दिया गया। साण्डर्स की मौत के बाद गौरो की सरकार बौखला गई। ब्रिटिश सरकार ने शीघ्र ही भगतसिंह और उनके साथियों को पकड़ने के आदेश जारी किये। इस घटना के बाद भगतसिंह को लोकप्रियता प्राप्त हुई और लोगों की जुबान पर भक्तसिंह का नाम गूंजने लगा। गौरे से बचने के लिए उन्होंने अपने बाल कटवाकर, पेंट शर्ट पहनकर और सिर पर हैट लगाकर वेश बदला और सभी की आंखों में धूल झोंकर कलकत्ता पहंुचे। कलकत्ता में कुछ समय बिताने के उपरान्त आगरा गए। इसी दौरान हिन्दुस्तान समाजवादी गणतंत्र संघ की केन्द्रीय कार्यकारिणी की एक सभा हुई, जिसमें पब्लिक सेपफ्टी बिल तथा डिस्प्यूट्स बिल पर चर्चा हुई। इनका विरोध करने के लिए भक्तसिंह ने केन्द्रीय असेम्बली में बम फंेकने का प्रस्ताव रखा। साथ ही उन्होंने कहा कि इस से बम से किसी भी व्यक्ति को हानी न हो। इसके बाद हम स्वयं की गिरफ्तारी देगें। भगतसिंह के इस प्रस्ताव से चंद्रशेखर आजाद असंतुष्ट थे पर भगतसिंह की जिद के आगे उनकी एक न चली और विवश होकर उन्हें प्रस्ताव स्वीकार करना पड़ा। 8 अप्रैल,1929 को भक्तसिंह और बटुकेषवर निष्चित समय पर असेम्बली पहंुचे। जैसे असेम्बली में बिल के पक्ष में निर्णय देने के लिए अध्यक्ष उठा, भगतसिंह ने एक बम फेंका, फिर दूसरा। दोनों ने इंकलाब जिंदाबाद के नारे लगाते हुए अपनी गिरफ्तारी दी। इस घटना के बाद सुखदेव, जयगोपाल तथा किशोरीलाल को भी गिरफ्तार कर लिया गया। भगतसिंह अच्छी तरह से जानते थे कि अंग्रेज सरकार उनके साथ कैसा व्यवहार करेगी। उन्होंने अपने लिए वकील तक नहीं किया क्योंकि उनकों अपनी आवाज जनता तक खुद पहंुचानी थी। 7 मई 1929 को भगतसिंह व बटुकेशवर के विरूद्ध न्याय का अंधा नाटक शुरू हुआ। भगत को पता था कि न्याय उनके पक्ष में नहीं होगा। अदालती कार्यवाही चलती गई और इसके पश्चात 7 अक्टुबर 1930 को 68 पृष्ठीय निर्णय दिया, जिसमें भगतसिंह, सुखदेव तथा राजगुरु को फंासी की सजा सुनाई गई। इस निर्णय के विरूद्ध नवम्बर 1930 में प्रिवी परिषद में अपील दी गई, परन्तु वह भी खारिज हो गई। देष और विदेश में भगतसिंह की सजा को न्याय के विरूद्ध ठहराया। पर अंग्रेजों के आगे किसी की एक न चली। भगतसिंह द्वारा लगाई की चिंगारी अब आग बन गई थी और ब्रिटिश सरकार के खिलाफ पूरा देश एक साथ खड़ा हो गया। जेल में रहते हुए उन्होंने आजादी की लड़ाई बड़ी चतुराई से लड़ी। ब्रिटिश शासन की कूट नीतियों का उजागर किया गया।

जेल में रहते हुए भगत सिंह ने दि डोर टू डेथ (मौत का दरवाजा), आइडियल आॅफ सोशोलिज्म (समाजवाद का आदर्ष ), स्वाधीनता की लडाई में पंजाब का पहला उभार आदि पुस्तकें लिखी। इस देशभक्त में इतना जुनून था कि वह कैदियों में जोश भरने के लिए शहीद राम प्रसाद बिस्मिल की यह पंक्तियां गाने लगते -मेरा रंग दे बसंती चोला। इसी रंग में रंग के शिवा ने मां का बंधन खोला।। मेरा रंग दे बसंती चोला। यही रंग हल्दीघाटी में खुलकर था खेला।। नव बसंत में भारत के हित वरों का यह मेला। मेरा रंग दे बसन्ती चोला।।

ब्रिटिश सरकार को भगतसिंह का खौप सताने लगा था और वह उनकी चाल समझ गए। गौरों ने फंासी का समय प्रातकाल 24 मार्च, 1931 निर्धारित किया था। पर ब्रिटिश सरकार इस निर्णय में लेट हो गई थी क्योकि भगत ने सम्पुर्ण भारतवासियों में आजादी का जज्बा कायम कर दिया था। जो उनका प्रमुख लक्ष्य था। जिंदगी तो देश के नाम कर चुके थे, तो मौत से क्या डरेगें। भगतसिंह, सुखदेव और राजगुरु को निष्चित तारिक से एक दिन पहले सायंकाल 7.33 बजें ही फंासी पर चढा दिया गया। लाशों को परिवार के हवाले करने की हिम्मत तो गौरों में नहीं थी। उनकी लाशों के टुकडे़ कर रातों रात चुपचाप फिरोजपुर के पास सतलुज नदी के किनारे जलाने के लिए ले जाया गया। पर जनता हाथ में मशाल लिए वहां जा पहुंचे और अंग्रेज सैनिक लाशों को छोड़ कर भाग गए। देशवासियों ने उनका विधिवत दाह संस्कार किया। भगत सिंह की मुत्यु के बाद भी वह अमर रहे। उनका नाम ही अब देशकी आजादी के लिए काफी था।

भगतसिंह से प्रभावित होकर डाॅ. पट्टाभिसीतारमैया ने लिखा था कि यह कहना अतिष्योक्ति नहीं होगी कि भगतसिंह का नाम भारत में उतना ही लोकप्रिय था, जितना गांधी का। भारत को आजाद कराने में भगतसिंह का बलिदान व्यर्थ नहीं गया और भारत जल्द ही आजाद हो गया। भारत के लिए भगतसिंह तुम अमर हो और अमर रहोगे।

Monday, October 13, 2008

जागो हिन्दुस्तान

उठो वीर अब तुम सब जागो, जागो हिन्दुस्तान।
नई सदी का दौर चला है, न घटने देंगे मान।
उठो वीर अब तुम...

खून बहेगा बह जाने दो, दोष लगेगा लग जाने दो।
भाई मिटेगा मिट जाने दो, उम्र घटेगी घट जाने दो।
देश प्रेम की ज्योत जली है, सब कर दो बलिदान।।

उठो वीर अब तुम...
राजनीति के दौर से बचना, इसके जाल में तुम मत फंसना।
सत्य त्याग की आग में जलकर, एक नया इतिहास है रचना।
प्रेम प्यार से बहुत हो चुका, अब निकालो तीर कमान।।
उठो वीर अब तुम...

धर्म पुकारे तुमको आकर, राजनीति से नजर बचाकर।
घाटी में सुलगे अंगारे ,गद्दारों को घर में पाकर।
आतंकी सारे गद्दारों के पल में हर लो प्राण।
उठो वीर अब तुम...

यह कविता मेरे घनिष्ट पत्रकार मित्र प्रशांत शर्मा द्वारा लिख गया है।

Saturday, October 11, 2008

ठाकरे की दादागिरी

मुंम्बई मेरे बाप की है: उद्धव ठाकरे
उत्तर भारतीयों को तो अभी ट्रेलर बताया था। अभी और कहानी बाकी है।: राज ठाकरे

मैं अगर मुख्यमंत्री होता तो नैनो परियोजना को कभी गुजरात नहीं जाने देता: राज ठाकरे
मनोज कुमार राठौर
भारत देश किसी के बाप का नहीं है और न ही इसमें निवास करने वाली जनता पर किसी प्रकार का प्रतिबंध है। भारत देश के प्रत्येक नागरिक को स्वतंत्रता का अधिकार प्राप्त है। पर न जाने क्यों मुंबई को ठाकरे सदस्यों ने अपनी जागीर समझ रखी है।
शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे आतंकवाद के नाम पर काग्रेंस सरकार पर कीचड़ उछाल रहे हंै, तो उनके सुपुत्र उद्धव ठाकरे मुंबई हमारे अपने बाप की कहने से नहीं चुक रहे हैं। उद्धव के चचेरे भाई और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे खुलेआम कहते हैं कि मराठी बनाम बाहरी मुद्दे का तो यह ट्रेलर था। अभी और कहानी बाकी है। इन त्रिमुर्ति की बयानबाजी गंदी राजनीति की व्याख्या कर रही है। इन्होंने तो राजनीति की परिभाषा ही बदल दी। जो राजनेता देश के सुरक्षा और शंति के लिए शपथबद्ध हंै आज वहीं लोकतंत्र की गरिमा भंग कर रहे हंै। लगता है कि सभी नेता क्षेत्रवाद, भाषावाद, जातिवाद, धर्म और समुदाय को लेकर चुनावी अखाडे़ में उतरते हैं। आज देश के विकास के रास्ते में अवरोध बने नेताओं ने तो देश को अपनी निजी सम्पति समझी है। शिवसेना सुप्रीमो बाल ठाकरे के बेटे उद्धव ठाकरे ने आखिर अपनी भड़ास निकाल ही दी। मुंबई के दशहरा के अवसर पर आयोजित शिवसेना की रैली में कई लोगों पर एक साथ निशाना साधते हुए उन्होंने यहां तक कह दिया कि मुंबई तो मेरे बाप की है। बेटे की ऐसी बयानबाजी से शायद बाप की छाती गर्व से फुल गई हो, लेकिन बेटे की यह टुचची हरकत क्या बताना चाहती है? मुझे तो ऐसा प्रतीत होने लगा है कि मुंबई को बारिस मिल गया है। मुंबई पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने उद्धव को चेताते हुए कहा है कि मुंबई किसी के बाप की नहीं है। अब लगता है केंद्र सरकार को ऐसी अपमानिय बयानबाजियों पर कोई नया कानून बनाना पड़ेगा।

भाषावाद को आग देने वाले मनसे के प्रमुख राज ठाकरे ने अब उत्तर भारतीयों के खिलाफ आंदोलन तेज करेंगे। मराठी बनाम उत्तर भारतीयों पर राजनीति करने वाले राज ने कहा कि अब तक जो हुआ, वह ट्रेलर था। अभी और कहानी बाकी है। एक आनलाइन मराठी अखबार के इंटरएक्टिव सेषन में राज ने कहा आप पेइंग गेस्ट बन कर आएं और घर पर ही दावा जताने लगें तो यह बर्दास्त नहीं किया जाएगा। महाराष्ट्र में नौ करोड़ मराठी हाशिये पर हैं ओर बाकी दो करोड़ बाहरी लोग मजे कर रहे हैं। राज ने अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा स्पष्ट करते हुए यह भी साफ कर दिया कि मनसे लोकसभा चुनाव लड़ेगी। राज ने तो वजनदारी में यह तक कह डाला कि अगर वह मुख्यमंत्री होते तो नैनो परियोजना को कभी गुजरात नहीं जाने देते।
ठाकरे ने भारत देश की राजनीति की परिभाषा ही बदल दी है। अब ऐसा लगता है कि फिर से अंग्रेंजो का प्रबल दौर आएगा और इसकी शुरूवात हमारे देश के अपने ही करेगें।

Wednesday, October 8, 2008

ममता की करनी, सिंगुर को पड़ी भरनी










राजनीति की बत्तर हालत के जिम्मेदार कौन?
मनोज कुमार राठौर
पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य और तृणमुल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बेनर्जी की राजनीति ने सब कुछ मिट्टी में मिला दिया। जहां एक ओर सरकार किसानों को विश्वास दिलाने मे विफल रही, वहीं दूसरी ओर ममता बेनर्जी ने किसानों का विश्वास तो जीता, पर राज्य की तरक्की पर अकुंश लगा दिया। दोनों तरफ से नकारा कोशिश की गई। कोई भी रतन टाटा की नैनो परियोजना को नहीं रोक पाया। अब पश्चिम बंगाल की छवि धूमिल हो गई है। सिंगुर की तो छोड़ो पश्चिम बंगाल के किसी भी ईलाके में कोई भी कम्पनी निवेश करने में दस बार सोचेंगी।

बुद्धदेव भट्टाचार्य आखिर रतन टाटा को नहीं मना सकें। उनके द्वारा की गई सैंकड़ों मीटिंग का कोई नतीजा नहीं निकला। बेचरे क्या करते उनकी टांग तो ममता जी खिंच रही थी। चलो माना कि ममता बेनर्जी किसानों की हित की बात कर रही है पर इस हित के पीछे उनका भी वोट हित छिपा है। बहनजी ने रतन टाटा को नौ दो ग्यारहा कर दिया पर शायद वह इस बात से अनभिज्ञ है कि किसी राज्य की तरक्की में उद्योग का भी महत्वपूर्ण योगदान होता है। मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कितनी इनवेस्ट मीटिंग रखी और अपने राज्य में सभी कम्पनी को निवेश करने के लिए आंमत्रित किया। मध्य प्रदेश के विकास के लिए वह नैनो परियोजना को भी लाने के लिए प्रयत्नशील रहे। पश्चिम बंगाल सरकार ने अपने राज्य के विकास के लिए पहला कदम बढ़ाने की कोशिश अवश्य की, पर वह उसमें असफल रहें। कारण साफ है कि पश्चिम बंगाल की राजनीति जनता में विश्वास पैदा नहीं कर पा रही है।

नैनो परियोजना के लिए बुद्धदेव ने 1000 एकड़ जमीन और श्रेष्ठंतम रियायते दी थी। बुद्धदेव चाहते थे कि टाटा की इस परियोजना से उनके राज्य की स्थिति सुधरेगी और बेरोजगारों को रोजगार भी मिलेगा, लेकिन वह किसानों की मांग और उनके विश्वास पर खरा नहीं उतर सकें जिसका फायदा ममता बहन ने ले लिया। नैनो फैक्ट्री 300 एकड़ जमीन पर स्थापित हो चुकी थी लेकिन उसके कल-पुर्जे बनाने के लिए 1000 एकड़ जमीन की ओर आवश्यकता थी। किसान भाईयों को सरकार बाजार मूल्य से भी अधिक कीमत देने को तैयार थी। रतन टाटा किसानों की मांगों को पूरी नहीं कर पर रहे थे। किसानों ने सरकार के सामने अपनी मांगों को लेकर प्रस्ताव भी रखा परन्तु इसका कोई नतीजा सामने नहीं आया, जिससे किसान नाराज थे। ममता ने किसानों के जख्म पर मलम लगाते हुए उनका साथ दिया और अंसन पर बैठ गई। ममता का जन आंदोलन बिकराल रूप धारण करने लगा, जिसको देखते हुए रतन टाटा ने किसानों की 150 एकड़ जमीन वापस की। इसके बाद भी आंदोलन थमने को नाम ही नहीं ले रहा था। ऐसे हालात में नैनो परियोजना प्रांरभ करना संभव नहीं था इसलिए रतन टाटा के सामने सिंगुर से नैनो परियोजना को हटाने के अलावा कोई विकल्प शेष बचा नहीं।

1500 करोड़ के निवेश के बाद भी हालात में सुधार नहीं आ रहा था इसी कारणवश रतन टाटा ने अपनी नैनो परियोजना गुजरात में लगाना का फैसला लिया। अब नैनों ने सिंगुर के किसानों और वहां की राजनीति से टाटा कर लिया और गुजरात का दामन थाम लिया। पश्चिम बंगाल नाम पर जो कालिख पुती है उसको मिटाना असंभव है।

विफल राजनीति का उदाहरण है
पश्चिम बंगाल...?

Monday, October 6, 2008

ईसाइयों पर हमला सही या ग़लत?

  • मनोज राठौर

गिरिजाघरों पर किए जा रहे हमले में हिन्दु संगठनों को दोषी ठहराया जा रहा है, लेकिन यह असत्य है। इन हमलों को यदि गंभीरता से लिया जाए तो इसका जिम्मेदार स्वयं इसाई समुदाय है।

ईसाई समुदाय अंग्रेजों के सिद्वांतों पर कार्य कर रहा है। जिस तरह अंग्रेजों ने भारत देश को शनैः शनैः अपना गुलाम बनाया थाए उसी नीति पर ईसाई समुदाय काम कर रहा है। वह चाहता है कि हिन्दुस्तान को यदि गुलाम बनाना है तो सबसे पहले उसकी जनता का धर्मांतरण किया जाए। पर वह ऐसा करने में असफल हो रहे हैंए क्योंकि यदि वह ऐसा काम करते हैं तो उसका विरोध जनता द्वारा किया जाता है। भारत के हर एक कोने में ईसाई समुदाय बसा है और उसके द्वारा संचालित कई संस्थाएं जनता के लिए काम भी कर रही हैं। पर जब धर्मांतरण की बात आती है तो उसका खामियाजा भी उसे ही भुगतना पड़ता है।

मैं भी ईसाई समुदाय द्वारा संचालित डगलस हाई सैकण्डरी स्कूल से अपनी 12वीं की पढ़ाई पूरी की। जब मैं वहां 10वीं कक्षा में पहुंचा तो मुझे ईसाइयों की नीति के बारे में पता चला। हमारी एक अतिरिक्त कक्षा लगती थी, जहां हमें बाइबिल के बारे में बताया जाता था। प्रत्येक रविवार वहां चर्च के कार्यक्रम होते थे। यहां हजारों की संख्या में लोग आते थे। यह प्रक्रिया यूं ही चलती रही, उस समय मैंने अखबार में एक फोटो देखा। वह फोटो किसी ओर का नहीं बल्कि मेरे प्राचार्य महोदय जी का था। जब मैंने वह खबर पड़ी तो पता चला कि वह गोविन्दपुरा स्थित एक चर्च में गये थे। वहां बजरंग दल ने उन पर हमला किया। हमले का कारण था धर्मांतरण। बजरंग दल का आरोप था कि चर्च में धर्मांतरण का काम चल रहा था। मैंने इस बात को अंधविश्वास मानाए क्योंकि कोई किसी का धर्म परिवर्तन कैसे कर सकता है।

भोपाल से करीब 45 किलोमीटर की दूरी पर एक गांव में मेरे रिश्तेदार रहते हैं। वहाँ एक ईसाई समुदाय का चर्च भी है। मुझे अपने रिश्तेदार से कुछ काम था अतः मैं वहां गया। अपने काम के साथ मुझे अपने प्राचार्य की घटना भी याद आ गई। मैंने वहां स्थित कुछ लोगों से बात की। जिससे मुझे पता चला कि ऐसा भी कुछ हो सकता है। वहां के स्थानीय लोगों ने बताया कि चर्च के फादर उनका निःशुल्क इलाज और बच्चों को पढ़ाने का कार्य भी करते हैं। लेकिन उन्होंने मुझे एक और बात बताई। वहां के लोगों से कहा जाता है कि आप सब ईसाई धर्म को अपना लो। तब ही तुम्हें ईश्वर की प्राप्ति होगी। मुझे आश्चर्य हुआ कि ईसाई धर्म इतना नीचे गिर सकता है।

कर्नाटक, बैंगलुरु और उड़ीसा के गिरिजाघरों में जब आग लगाने की घटना मैंने अखबार में पड़ी तोए सभी के पीछे एक ही कारण छिपा हुआ थाए धर्म परिवर्तन। इस पर भी मैं ईसाइयों के हित में थाए परन्तु सतना में जो घटना हुई हैए उससे मेरे विचार एकदम बदल गए। सतना में क्रिस्तुकला मिशन हायर सेकंडरी स्कूल में कार्यरत 18 ड्राइवरों को नौकरी से निकाल दिया गया। वहां की प्रिंसिपल फादर वर्गीस ने कहा कि दरअसल स्कूल के पास वाहन नहीं है इसलिए ड्राइवरों को हटाया गया है। पर मामला कुछ और ही था जिसके कारण ड्राइवरों को निकाला गया। सभी 18 ड्राइवरों ने एक जुबान में कहा कि एक दिन फादर वर्गीस हम सभी को सतना नदी पर ले गए तथा सभी को पानी में डुबकी लगाने को कहा और स्वयं ने भी डुबकी लगाई। डुबकी लगवाने के बाद फादर ने कहा कि आज से तुम्हारे माता.पिता मर चुके हैंए तुम मरियम की संतान हो। इस तरह जबरिया धर्म परिवर्तन कराए जाने का ड्राइवरों ने विरोध किया। इस पर बिना कारण बताए स्कूल प्रबंधन ने नौकरी से हटा दिया। इस तरह धर्मांतरण के कई मामले खबरों की सुर्खियां बने। कर्नाटक सरकार और केंद्र सरकार ने इन घटनाओं को रोकने के लिए आरोपियों पर कानूनी धाराएं भी लागू की। पर सरकार इन घटनाओं के कारणों को पता करने पर जोर नहीं दे रही है।ईसाई समुदाय पर हमले के पीछे एक ही कारण निकल कर आता है कि वह लोगों को धर्म परिवर्तन करने के लिए मजबूर करता है। ईसाई पर जो हमला हो रहा है वह सही है या गलतए इसका फैसला तो जनता कर ही देती है। यदि ईसाई समुदाय अपनी यह हरकत छोड़ दे तो उन पर ऊंगली तक कोई नहीं उठाएगा।

लोगों के धर्म पर नज़र मत डालो

वरना यूं ही दर्द को सहना पड़ेगा

Wednesday, October 1, 2008

नाम तो है पाक, पर काम है नापाक












मनोज कुमार राठौर
भारत के प्रत्येक नागरिक को पता है कि आतंकवादी देश कौन सा है?...फिर भी खामोशी क्यों? अब हमें यह चुप्पी तोड़नी होगी। पाकिस्तान आतंकवादी घटना को करने से भले ही इंकार करता हो लेकिन अब किसी देश से यह छिपा नहीं है कि पाकिस्तान ही आतंकवाद का जनक है। इस देश से ही जेहाद के नाम पर सैकड़ों आतंकवादी संगठन बनाए जा रहे हैं। क्या यह पाकिस्तान इन आतंकवादी से सुरक्षित है? पिछले दिनों पाकिस्तान में कई बम धमाके हुए जिसमें कई लोगों की जाने गई। क्या वहां मरने वाले लोग आतंवादी थे या फिर मारने वाले? इसका जबाव तो पाकिस्तान ही दे सकता है। आतंकवादी का न तो कोई धर्म होता है और न कोई महजब। वह जिस लड़ाई के लिए आतंकवाद का सहारा ले रहे हैं, उस वजह को हिन्दुस्तान जानता है। जम्मू कश्मीर को तो वह नैतिक युद्ध से हासिल नहीं कर सकता है इसलिए उसे प्राप्त करने के लिए आतंकवाद का सहारा लेता है। पर भारत इस आतंकवादी घटनाओं से डरने वाला नहीं है। जब हमारा देश विश्व शक्ति अमेरिका से परमाणु करार कर सकता है तो इस पर भी कड़ा कदम उठा सकता है। पाकिस्तान यदि समय रहते अपनी हरकतों से बाज नहीं आया तो भारत के पास एक ही रास्ता बचता है, वह है पाकिस्तान पर हमला।

किसी ने सही कहा है कि मज़हब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना। जब भी आतंकवादी खुलेआम कहते है कि वह इस्लाम की रक्षा के लिए अपने प्राणों तक की आहुति दे देगें, लेकिन वह यह नहीं जानते हैं कि जब धमाके किये जाते है तो उसमें मरने वाले लोगों में मुस्लमान भाई भी शामिल होते हैं। क्या वह असली इस्लामी नहीं हैं? षर्म करो ऐसे मुस्लमानों जो इस्लाम धर्म को बदनाम करने पर तुले हो। भारत के मुस्लमानों से पूछो कि इस्लाम धर्म क्या है? हिन्दुस्तान में पाकिस्तान से भी ज्यादा मुस्लमान निवास करते हंै। वह चाहे तो भारत में जेहाद के नाम पर बगावत कर सकते हैं, परन्तु वह ऐसा नहीं करना चाहते क्योंकि उन्हें पता है कि इस्लाम धर्म क्या है। पाकिस्तान में अब ऐसा लगता है कि इस्लाम धर्म की परिभाषा को बदल दिया गया है। इस परिभाषा को बदलने वाले ओर कोई नहीं, बल्कि उसके अपने ही है।
कल रूस को बिखरते देखा था
अब ईराक को टूटता देखेगें
हम बर्क-ए-जेहाद के शोलों में
पाकिस्तान को जलता देखेगें।
पाकिस्तान की इस आतंकवादी फैक्ट्री में ऐसे बम बनाए जा रहे हैं जिनके धमाकोें से भारत का दिल तक दहल गया। लगता है कि इन धमाकों की आवाज भारत में नहीं अपितु सम्पूर्ण विश्व में सुनाई देगी जिसका जीता जागता उदाहरण है अमेरिका का वर्ल्ड ट्रेड सेन्टर पर हमला। इस आतंकवादी नौका को जो भी चला रहा है वह यह जान ले कि जब कुत्ते की मौत आती है तो वह सभी पर भौंकता है और बाद में लोग उसे पागल करार देकर मार देते हंै। भारत में सीरियल बम धमाकों को आतंकवादी अपनी सफलता समझते हैं। इस सफलता से उनके आका तो बहुत खुश होगें क्योंकि वह आगे से बार तो कर नहीं सकते इसलिए पीछे से ही सही। चेतावनी देकर हमला करने से उनका सीना जरूर फूल गया होगा। पर भारत की एकता पर चोट करने वाले यह कीदड़ अब कुत्ते की मौत मारे जाएगें।

पहले से गरीबी की मार झेल रहा है। शायद हमारा पड़ोसी देश यह भूल गया है कि जब वह मुस्लिमांे को लेकर भारत से अलग हुआ था तो सुनसान जमीन पर नंगा खड़ा हुआ था। हमनें 35 करोड़ रुपए दिए तब जाकर उसके नंगे शरीर पर कपड़े आए। आज देखों वही भिखारी देष अपनी आतंकिय सेना लेकर भारत को संाप्रदायिकता के नाम पर लड़वाना चाहता है, जिससे भारत की एकता डेमेज़ हो जाए और इसका फायदा वह ले सके, लेकिन उसके यह नापाक ईरादे कभी भी सफल नहीं होगें क्योकि भारत में अनेकता होने के बाद भी एकता है।
भारत चाहे तो पाक को चंद मिनटों में अपना गुलाम बना सकता है पर वह निर्दोषों की जान नहीं लेना चाहता इसलिए बार-बार समझोता करता है। पर अब मुझे ऐसा लगता है कि इनके समझ में नहीं आएगी। अब इन्हें पूरी फिल्म दिखाने की जगह बस एक छोटा से टेलर दिखाया जाए ताकि इनके दिलों में खौफ पैदा हो, वरना यह साले सिर पर चढ़कर ताडंव करेगें। इस आतंकवादी बीमारी को भारत से जड़ से खत्म करना होगा।
आतंकवाद समस्या है हमारी
दूर करने की जिम्मेदारी है हमारी।


Tuesday, September 30, 2008

कुपोषण बनी देशव्यापी समस्या


मनोज कुमार राठौर
आजादी के 60 साल के बाद भी हमारे नौनिहाल भूख और कुपोषण से दम तोड़ रहे हैं। कुपोषण का कहर तेजी से फैल रहा है आए दिन कुपोषण के कारण कई मासूम बच्चों की जान जा रही है। प्रदेष के सतना, ग्वालियर, छिदंवाड़ा और विदिषा में कुपोषण के कई मामले सामने आए। इन क्षेत्रों के अलावा भी भोपाल में 700 से अधिक बच्चे कुपोषण का षिकार हैं और उनमें से तीन दर्जन बच्चे गंभीर है। यह समस्या राज्य तक सीमित नहीं है, अब तो यह पूरे देश में अपना घर बना रही है। इसके लिए हमारी सरकार और लोगों को कमर कसना पड़ेगी।
नौनिहाल की मृत्यु दर दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। सरकार प्रयास तो कर रही है परन्तु इस पर रोक लगाने में असमर्थ दिखाई देती है। कुपोषित बच्चों के लिए सरकार कई जगहों पर कुपोषण केंद्र तो खुलवाए हैं, लेकिन वहां की व्यवस्था इतनी अच्छी नहीं है कि बच्चों को अच्छा ईलाज मुहैया कराया जा सके। जिलों के कई पिछड़े क्षेत्रों में ईलाज के लिए बच्चों को कुपोषण केंद्रों में नहीं लाया जाता है। पिछड़े क्षेत्रों के लोगों को डाॅक्टरी की परिभाषा तक नहीं पता। वह तो झाड़ा फंूकी पर विश्वास रखते हैं। लोगों की अंाखों पर से अंधविष्वास की काली पट्टी को हटाना पडे़गा। इसके लिए सरकार को आगंनबाड़ी के कार्यक्रताओं और स्वास्थ्यकर्मीयों द्वारा लोगों को जागरूक करना चाहिए। इस संदर्भ में कई योजना भी बनानी चाहिए, ताकि कुपोषित बच्चों का समय पर ईलाज हो सके।
जिस तरह पोलियों को समाप्त करने के लिए सरकार दृढ़ संकल्पित हुई थी। उसी प्रकार इस पर भी ध्यान देना चाहिए। कभी तो कुपोषण ग्रस्त ईलाकों की संख्या कम हैं। यदि इस पर समय रहते ध्यान नहीं दिया गया तो यह भी पोलियों की तरह पूरे देश की समस्या बन जाएगी। हमारे देष में कुपोषित बच्चों की संख्या 1998-1999 में 53.5 की तुुलना में 2005-2006 में 60.3 फीसदी हो गई है। बच्चों पर यह बीमारी अपना घर बना रही है। मध्यप्रदेश के अलावा भी देश के कई राज्यों में कुपोषित बच्चों की संख्या बढ़ती जा रही है। हालांकि हमारा स्वास्थ्य विभाग इस विषय पर लोगों को जानकारी देता है। पर सरकार के अलावा भी लोगों का कर्तव्य बनता है कि इस पर ध्यान दे। जिस तरह यह कुपोषण बच्चों में फैल रहा है उसको देखते हुए स्वास्थ्य विभाग को ओर अधिक सतर्क हो जाना चाहिए। जिले के सरकारी आकंड़ों की माने तो अब भी 289 गंभीर कुपोषित बच्चें जीवन-मृत्यु से जूझ रहे हैं। तथापि इस साल की शुरूवात में कुपोषण एक फीसदी कम हुआ है। पर क्या यह एक फीसदी हमारी सफलता है? सतना जिले के कई ब्लाकों में कुपोषित बच्चों के मामले सामने आए हैं। सतना के अलावा भी कई जिले मे कुपोषण की काली छाया का प्रकोप है। आज के इस वैज्ञानिक युग में कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी का ईलाज है, तो फिर यह तो एक छोटी सी बीमारी है। कुपोषण पर राज्य सरकार के अलावा केंद्र सरकार को भी गंभीर होना चाहिए।

Monday, September 29, 2008

मत डर हिन्दुस्तान, क्या करेगा पाकिस्तान

भारत जैसे शक्तिशाली देश में आतंकवाद क्यों बढ़ रहा है। इसके पीछे आखिर कौन सी वजह है? हमें अब तक इस समस्या से छुटकारा क्यों नहीं मिल पा रहा है? अब तो यह स्थिति देखकर ऐसा लगता है कि इस संदर्भ में हमारी सरकार मौन है। इस गंभीर विषय पर सरकार द्वारा आश्वासन और बयानबाजी की जाती है, परन्तु कोई कड़ा कदम नहीं उठाया जाता। हिन्दुस्तान को पता है कि पाकिस्तान के आतंकवादी इन घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं फिर भी हमारी सरकार चुप्पी साधे हुए है। इसी सभी उलझनों को लेकर यह कविता लिखी गई है।
मनोज कुमार राठौर

मत डर हिन्दुस्तान
क्या करेगा पाकिस्तान

हमें पता आतंकवादी कौन
जब भी क्यों हम रहते मौन

मासूमो की जान है जाती
सरकार तो बस नोट दिखाती

लगता नेताओं की है सांठ-गांठ
इसलिए सुनती है उनकी बात

पोटा कानून लागू नहीं करती
क्यों नये कानून की माला जपती

चुनौती देकर करते हमले
फिर भी हम नहीं होते चोकन्ना

आख़िर क्यों नहीं लेतें बदला
कब तक सहगें हम यह हमला

जब किया है परमाणु करार
तो इस पर भी करो विचार

अब तो करना होगा युद्ध
तभी होगें हम सब मुक्त

कब तक करे हम समझोता
बह देते हर समय धोखा

सभी एक ही थाली में हैं खाते
इसलिए घर के भेदी लंका ढाते

अब समझोते की नहीं
समझाने की बारी है

चंद मिनटों में करो यह काम
भारत मां का लेकर नाम
जय हिन्द

Wednesday, September 24, 2008

आतंकवाद भाई


सुबह-सुबह घूमना स्वास्थ्य के लिए कितना लाभदायक होता है। यह किसी से छिपा नहीं है। मेरे लिए तो और भी लाभदायक सिद्ध हुआ जब मेरी मुलाकात उस महानगुणों के
धनी से हुई । जो भी वार्तालाप हुई वह मैं अपने इस लेख के माध्यम से आप सभी के समक्ष प्रस्तुत करना चाहता हूं।

उस दिन हल्की-हल्की बूंदों की फुहार भरे मौसम को खुशनुमा बना रही थी। मैं प्रातः भ्रमण के लिए गया और अचानक मेरी नजर सड़क के किनारे पड़े एक व्यक्ति पर पड़ी वह एकदम सुस्त व बीमार सा लग रहा था। मेरे अन्दर का इंसान जाग उठा, मुझे उस पर दया आ गई। मैं उसके समीप जाकर उसे पुकारा और उसका नाम पता जानना चाहा, परन्तु वह इतना कमजोर था कि उसके मुंह से सही ढंग से कराह भी नहीं निकल रही थी। बड़ी मुश्किल से मैंने उसे सहारा देकर उठाया और उसे पानी पिलाया।
अब कैसा लग रहा है भाई साहब उससे पूछा । बमुश्किल उसके मुंह से निकला ठीक हूं पहले से काफी बेहतर महसूस कर रहा हूं। मैंने उससे नाम तथा पता पूछा। पहले तो वह मेरे सवाल का जबाब नहीं दे रहा था फिर मेरे जोर देने पर कहने लगा कि रहने दो भई मेरा नाम पता जानने के बाद तुम मुझे गाली दोगे और घृणित नजरों से देखोगें, मैने उस आश्वासन दिया कि ऐसा कुछ नहीं होगा मुझ पर विशवास करो। मेरे आश्वासन देने के बाद उसने कहा कि ठीक है अगर आप इतना जोर दे रहे हैं तो सुनिए मेरा नाम आतंकवाद आफगानी है। मैं शान्तचित होकर उसकी बातें सुन रहा था कि भई कहंा खो गए, मै आतंकवाद आफगानी हूं तुमने सही सुना । हां मेरा नाम आतंकवाद है समझे। मुस्कुराकर कहा आप अपनी बात जारी रखिए। वह मेरी तरफ मुंह फाडे़ देखने लगा और फिर मुझसे कहा आप मेरा नाम सुनने के बावजुद इतने शांत खड़े हैं। पर मुझे और ज्यादा जानने के बाद आप मुझे अगर मारेंगे नही ंतो गाली अवश्य देंगे। मैंने उसके परिवार और निवास स्थान के बारे में पूछा उसने कहा मेरे माता पिता क्रिमस्छा नफरत और जेहाद हैं और मेरे भाईयों के नाम हैं-अलकायदा, जैश-ए-मोहम्मद। मेरे ननिहाल अफगानिस्तान के पास तालिबान में है तथा मेरे पिता पाक के हैं। इसलिए मेरा बचपन ननिहाल और दादा-दादी के यहां गुजरा। मेरा लालन-पालन दोनों जगह सामन रूप से हुआ।

उसने अपना निवास स्थान बताते हुए कहा कि जावानी में कदम रखते ही अपने घर के बाहर निकला ताकि कुछ रोजगार की तलाश करके अपनी रोजी रोटी चला सकूं इसीलिए मैं भारत अर्थात आपके देशआ गया। मैं सबसे पहले पंजाब गया और वहां पर 10-15 साल तक काम किया, उसके बाद मैं ठंडी वादियों की सैर करने के इरादे से जम्मू-कश्मीर की ओर आ गया और अभी भी वहीं पर हूं।
मैंने उससे कहा कि फिर आज आप यहां कैसे पहंुच गए। उसने बताया कि मुझे एक ही जगह पर रहते-रहते काफी दिन हो गए थे तो मैंने सोचा कि चलो थोड़ा आबोहवा बदली जाए लहरों में अठखेलियां करने के लिए आ गया, फिर सोचा कि इस देश के उद्योग धंधे देख आऊं इसीलिए मैं बंगलुरु और गुजरात गया और अब यहां झीलो की नगरी भोपाल आया । मुझे याद आया कि अभी कुछ समय पहले वाराणसी और जयपुर में भी आतंकवाद नाम के दर्शन हुए थे। उसने मुझसे कहा कि मैनें अपनी तरफ से बहुत कोशिश की तुम हिन्दुस्तानियों को अलग करने कि कभी सम्प्रदाय के नाम से कभी मंदिर- मस्जिद के नाम पर, लेकिन तुम लोंग कभी भी अलग नहीं हुए । तुम हिन्दुस्तानियों को कुछ समय के लिए आपस में लड़ाकर मै खुश हों जाता था पर पता नहीं ऐसा क्या है कि तुम लोंग कुछ समय बाद फिर एक साथ हो जाते हों।

मैंने आतंकवाद को सहारा देकर कहा कि उठकर खडे़ हो जाओ भाई। वह थोड़ी हिम्मत करके मेरा हाथ पकड़कर खड़ा हुआ। मैंने उसे समझाया देखो भाई अगर तुम्हें हम हिन्दुस्तानियों के दिलों में दहशत पैदा करनी है तो तुम्हें एक आसान तरीका बताता हूं। उसके चेहरे पर एक चमक आ गई उसने कहा भाई जल्दी बताओ क्या है वह तरीका, मैंने कहा इसके लिए तुम्हे एक-एक मां की गोद सूनी करनी होगी, पत्नी की माँग, भाई की कलाई सूनी करनी होगी। वह बोला यह तो बहुत मुश्किल काम है। मैं उसके हताशा को सुन रहा था। मैंने उससे कहा कि भई देखो तुमने इतनी मेहनत की और इस देश को तोड़नें की पुरजोर कोशिश की, कभी जातिवाद के नाम पर, कभी आरक्षण के नाम पर, लेकिन आपने कभी सोचा कि फिर ऐसी कौन सी बात है कि आप लोग कभी सफल नहीं हो पाए है।मैं उसे समझा रहा था कि अचानक मेरे पीछे की तरफ से एक फुटबाल आतंकवाद को लगी और वह एक कटे पेड़ की भांति जमीन पर गिर गया। मैंने कहा कि संभालकर भाई साहब और देखा कि एक सात-आठ साल का बच्चा दौड़ता हुआ आया व मुझसे कहने लगा कि भइया मुझे माफ कर दीजिए ये फुटबाल मेरी है और मैंने मारी थी। मैंने कहा कि बेटा तुम्हारी फुटबाल मुझे नहीं बल्कि इन साहब को लगी है, वह बच्चा आतंकवाद की ओर मुखातिब होते हुए कहा अंकल मुझे माफ कर दीजिए। मंैने कहा बेटा इनका नाम आतंकवाद है,उस बच्चे ने मुस्कराते हुए कहा कि सारी आतंकवाद अंकल और अपनी मासूम आवाज में कहने लगा मेरी गलती नहीं है, उधर देखिए वो तीनों मेरे दोस्त है असलम, सुखविन्दर और पीटर उन्होंने फुटबाल के कारण मुझसे लड़ाई करना शुरू कर दी और मैं गुस्से के कारण फुटबाल में लात मार दी। मैने उसके सिर पर हाथ रखते हुए बड़े प्यार से पूछा बेटा तुम्हारा नाम क्या है उसने कहा विजय फिर मैने कहा अच्छा बेटा जाओ उसने साॅरी कहा फिर चला गया।आतंकवाद ने मुझसे कहा भाई साहब यह बच्चा मेरा नाम जानने के बावजूद मुझसे बिना डरे साॅरी कहकर चला गया। मैंने उसे समझाते हुए कहा कि दरअसल में भाई साहब बात ऐसी है कि इन बच्चों को इनके माता-पिता ने ऐसे संस्कार दिए है कि वो लोग किसी से भी गुस्ताखी नहीं कर सकते चाहे वह उनका दुश्मन ही क्यों न हो। मैंने आतंकवाद से कहा कि भाई साहब मैं आपका एहसानमंद हूं। अरे नहीं मैं बस क्या सारा देष आपका आभारी रहेगा, आतंकवाद आफगानी मेरा मुंह ताकने लगा वह बोला क्यों मैंने ऐसा क्या कर दिया कि सारा देश मेरा आभारी रहेगा। मैंने उससे कहा कि आप हम भारतीयों का एकता का मंत्र देते हो उन्हें मोतियों की भांति एक माला में पिरोकर रखते हो, जब कभी हमारे देश में कहीं भी बम विस्फोट हो या दंगे फसाद होते है उसी समय हमें अपने भारतीय होने का एहसास होता है हमारे संस्कार रीति रिवाज और अपनत्व की भावना अपने कर्तव्यों का बोध होता है हिन्दू मुसलमान के बच्चों को अपना खून देता है तो मुसलमान अपने भूखे बच्चे के सामने से भोजन की थाली खिसकाकर एक हिन्दू बच्चे को दे देता है।ष्यहां पर हिन्दू रमजान के पावन पर्व में रोजा रखता है तो मुसलमान नवरात्र में, हिन्दू ताजिया में जुलूस निकालते हैं तो मुसलमान जगन्नाथ भगवान का रथ खीचते हैं जानते हो ये सब क्यों करते है क्योंकि वे एक भारतीय हो जाते हैं। वे हम हो जाते हैं हम का अर्थ हिन्दू मुसलमान है और तुम्हारे इन अत्याचारों का मुकाबला कोई एक संप्रदाय नहीं करता बल्कि हम (हिन्दू,मुसलमान,सिख,ईसाई) करते हैं मेरी ऐसी बातें सुनकर आतंकवाद की आंखों से आंसू बहने लगे उसे देखकर मेरा भी गला रूआंसा हो गया। वह धीरे धीरे कदम बढ़ाते हुए जाने लगा और मंै उसे रूआसे स्वर में भाई साहब कहकर पुकारता रहा। मैं मजबूर था मैं उसके लिए कुछ नहीं कर सकता था।

आतंकवाद के जाने के बाद मैंने अपने आंसू पोछे तथा सोचने लगा कि उस महान आत्मा के साथ कोई अनुचित व्यवहार तो नहीं किया बताओ बेचारा मेरे कारण हुए चला गया मै अपने कहे गये षब्दों में खोया था और सोच रहा था कि क्या वाकई में आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए हम खडे़ हैं मैं यही सोचते हुए पीछे मुड़ा ही था कि मैंने देखा वही फुटबाल खेलने वाले बच्चे मेरे पीछे खड़े थे और मुझसे कहने लगे कि भइया आतंकवाद आफगानी का मुकाबला करने के लिए आप अकेले नहीं हैं, आपके साथ हम खड़े हैं सच ही तो कहा उन बच्चों ने क्योंकि यही तो भविष्य हैं हमारे देश के। अगर ये बच्चे आतंकवाद के खिलाफ खड़े हैं तो क्या मेरे देश के युवा नहीं? मैं इसका जवाब अपने युवा भाइयों से जानना चाहूंगा। अपने देश से अगर आतंकवाद आफगानी को भगाना है तो हम सभी को एक साथ इसका मुकाबला करना होगा। केवल एक दो लोगों के लड़ने से ही यह समस्या हल नहीं होगी।
यह लेख मेरे घनिष्ट पत्रकार मित्र अश्वनी प्रभात शर्मा द्वारा लिख गया है।


Saturday, September 20, 2008

व्यंग्य

आओ सिखाएं

तुम्हें पोटे का पोटा..

मनोज कुमार राठौर
पोटा कानून को लेकर कर पार्टी आमने-सामने हैं। यह वह पोटा है जिस पर सभी राजनीति दल अपनी रोटियां सेंकना चाहते हैं। हां मैं बात कर रहा हूं आतंकवाद निरोधक कानून (पोटा) की जो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कार्यकाल से अभी तक अधर में है। आतंकवाद से निपटने के लिए बनाए गए इस कानून की तो मिट्टीपलित हो रही है। अब तो ऐसा लगता है कि पोटा न तो घर का है और न ही घाट का। उसका तो भगवान ही मालिक है। राजनीतिक पार्टियां तो यही चाहती है कि पोटा का ताज उनके सिर पर सजे। पर शायद इस पोटा-पोटा की रट में तो उसका आस्तिव ही समाप्त हो जाएगा। हाए रे यह पोटा, किस ने बनाया यह पोटा, यह सवाल सभी के मन में है। जब पोटा का प्रयोग ही नहीं किया जा रहा तो यह पोटा कानून हमारे लिए बेकार है। पोटा के रचियता यह भूल गए थे कि यह पोटा आखिर क्यों बनाया गया।
पोटा का चलन तो हमारे गृहमंत्री साहब के कपडे़ के समान बदल रहा। सरकार आतंकवाद के लिए नए कानून की बात कर रही है। अब ऐसा लगता है कि पोटा का काम समाप्त हो गया है। यह तो वहीं बात हुई खाया पिया कुछ नहीं और गिलास फोड़ा आठाना। जब पोटा कानून बनाया गया है तो उसे लागु करना चाहिए न कि उसे संविधान की विरासत में सजा कर रखना चाहिए। जहां एक ओर हम आतंकवाद को समाप्त करने की बात करते हैं तो दूसरी ओर उसे पनहा भी हम देते हैं। हमारी सरकार पोटा कानून लागू करने में असमर्थ है। पर उसकी बहादुरी भी तो देखो की वह आतंकवाद के लिए नया कानून बना रही है। हमारी प्रिय सरकार जब आतंकवाद निरोधक कानून पोटा लागू करने में सकक्षम नहीं है तो क्या खाक इस नये कानून को लागू करपाएगी।
किसी ने सही कहा है कि दो पत्नियों से तो अच्छा एक का होना सही है। क्योंकि हमें एक तरफ से प्रताड़नाएं मिलती है न कि दोनों तरफ से। भारत सरकार एक कानून का पालन तो सही तरह से नहीं कर पर रही है और अब नया कानून बनाने चली। सरकार को गिराने के लिए अन्य राजनैतिक पार्टी इसको अपना चुनावी मुद्दा जरूर बनाएगी। राजनीतिक की इस घमासान में नुकसान तो आम जनता का है। सरकार तो यह समझती है कि जब भी आतंकवादी देश में पटाखे फोड़े है तो उसका मुहावजा लोगों को मिले, पर मुहावाजा किसी की जान की कीमत नहीं है। जब किसी मां के बूढ़ापे का सहारा उससे छिन जाता है तो उसका दर्द वह जिंदगी भर झेलती है क्या किसी को इसका अंदाजा है?

मालवी भाषा में पोटा का अर्थ होता है गोबर। भारत में गोबर के कण्डे का बहुत चलन है। जिसके पीछे कभी-कभी लड़ाई भी हो जाती है। मोहल्ले की गली में यदि गोबर पड़ा है तो मोहल्ले के कई लोग आपस में झगड़ने लगते हैं, जिसमें एक बोलता है कि यह मेरा गोबर है, तो दूसरा कहता है कि इस पर मेरा अधिकार है। सभी को मालूम है कि गोबर से कण्डे बनाए जाते हैं। पर यह बात मुझे हजम नहीं होती कि इस गोबर के लिए आखिर लोग क्यों लड़ते हैं। जी हां मेरा इसारा उन राजनीति पार्टियों की तरफ है जो इस गोबर को लेकर लड़ रहे हैं। इस गोबर के पीछे आखिर लड़ाई क्यों की जाती है। यह गोबर (पोटा) किसी के भी पास जाए। लक्ष्य यही होना चाहिए की इसका कण्डे अवश्य बने। नेताओं ने तो इतनी टुच्चाई दिखाई है कि इसको लेकर राजनीति कर रहे हैं। मैं तो सीधी बात करता हूं कि यह पोटा कानून किसी भी राजनीति पार्टी का ताज बने, पर शर्त इतनी सी है कि इस पोटा कानून को लागू भी करे, तभी मानेगें कि तुम मैं दम हैं। आतंकवादी एक के बाद एक तमाचे हमारी देश की जनता पर ही नहीं जड़ रहे हैं अपितू पूरे भारत देष में इस तमाचे की गूंज सुनाई दे रही है। सरकार के निकम्मेपन के प्रति आष्वस्त आतंकवादी हमला कर रहे हैं, जान-माल की नुकसान कर रहे हैं वो भी खुलेआम चुनौती देकर। वे जानते है कि यहां का हर पोटा अंततः कण्डे में तब्दील हो जाता है। जिसको लेकर राजनीति पार्टी कभी एकमत नहीं हो सकती है। इस देष में पोटा लागू करने की दूर की बात है यहां की खुफिया एजेंसी भी खोखली साबित हो रही हैं। सरकार पोटा की ओर कोई विशेष ध्यान नहीं दे रही, परन्तु वह अपने नये कानून रासुका की तरफ उसका ज्यादा ध्यान है। सरकार का कहना है कि रासुका कानून पोटा जैसा होगा। मैं तो साफ कहता हूं कि जब पोटा लागू करने में इनकी हवा निकल रही है तो यह रासुका कानुन क्या खाक लागू करेगें। आतंकवादियों के खिलाफ जब तक सरकार यह नया कानून लागू करेगी जब तक षायद आतंकवाद दूसरी घटना को अंजाम दे चूके होगें, अब काम पैसेंजर का नहीं है बल्कि सुपरफास्ट का है। मतलब है कि चटमगनी और पट विवाह।
जब आतंकवाद के लिए बार-बार कानून बनाए जाएगे तो उन सालों में खौफ कैसे पैदा होगा। वो तो ओर निर्डर हो जायेगे कि सरकार हमारे लिए नई योजनाएं बना रही है। अरी अंधी सरकार कुछ तो इन मासूम जनता का ख्याल रखो जो इन आतंकवादी घटना का शिकार हो रही हैं। तुम अपनी सरकार बचाने के लिए आतंकवादी को क्यों पनहा दे रहे हो। मैं तो एक स्वतंत्र पत्रकार हूं और मेरे यही विचार है कि इस गोबर को आतंकवाद के मंुह पर दे मारो ताकि वह भी समझ जाए कि भारत किसी से डरता नहीं है। सरकार को यदि आतंकवाद को जड़ से खत्म करना है तो उसे पोटा से भी बड़ा पोटा कानून बना कर लागू करना होगा।